1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने चीन-पाकिस्तान को लगाई जमकर लताड़

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने चीन-पाकिस्तान को लगाई जमकर लताड़

पाकिस्तान में हिंदू, ईसाई और अहमदिया समुदाय के लोगों की धर्मिक आज़ादी की हालत को लेकर खुद पाकिस्तान के ही नवीद वॉल्टर ने इमरान सरकार को जमकर कोसा है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: August 23, 2019 9:14 IST
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने चीन-पाकिस्तान को लगाई जमकर लताड़- India TV
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने चीन-पाकिस्तान को लगाई जमकर लताड़

नई दिल्ली: दुनिया में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर संयुक्त राष्ट्र में एक लंबी बहस चल रही है। बहस के दौरान धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिका ने चीन और पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई है। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी दूत सैम ब्राउनबैक ने कहा कि पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यक भेदभावपूर्ण कानूनों और प्रथाओं से पीड़ित हैं। साथ ही चीन में धार्मिक स्वतंत्रता पर व्यापक और अनुचित प्रतिबंध बढ़ाए जा रहे हैं, इसे लेकर हम चितिंत हैं।

Related Stories

सैम ब्राउनबैक ने कहा कि हम चीनी सरकार से उस राष्ट्र में सभी के मानवाधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता का सम्मान करने का आग्रह करते हैं। वहीं दुनिया भर के देशों से संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने धार्मिक नफरत खत्म करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम के खिलाफ घृणा, ईसाइयों और अन्य धार्मिक समूहों के उत्पीड़न की भावना को खत्म किया जाना चाहिए।

एंटोनियो गुटेरेस ने यह भी कहा कि यहूदियों की हत्या कर दी गई थी और मस्जिदों में मुस्लिमों को मारा जा रहा है। उनके धार्मिक स्थलों को तोड़ा जा रहा है। वहीं ईसाइयों को मारा जा रहा है और उनके चर्चों में आग लगाई जा रही है।

पाकिस्तान में हिंदू, ईसाई और अहमदिया समुदाय के लोगों की धर्मिक आज़ादी की हालत को लेकर खुद पाकिस्तान के ही नवीद वॉल्टर ने इमरान सरकार को जमकर कोसा है। ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा और फ्रांस के साथ साथ कई देशों ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की स्थिति पर चिंता ज़ाहिर की है। इन देशों ने कहा है कि पाकिस्तान और चीन की सरकारें ये तय करें कि उनके देशों में अल्पसंख्यकों को उनकी धार्मिक आज़ादी का अधिकार मिले। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment