1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. निक्की हेली ने कहा, म्यांमार में खराब हो रहे हालात से चिंतित है अमेरिका

निक्की हेली ने कहा, म्यांमार में खराब हो रहे हालात से चिंतित है अमेरिका

निक्की हेली ने कहा है कि अमेरिका म्यांमार के राखिन राज्य में खराब होती स्थिति को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित है...

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: September 09, 2017 17:08 IST
Nikki Haley- India TV
Nikki Haley | AP Photo

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा है कि उनका देश म्यांमार के राखिन राज्य में खराब होती स्थिति को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित है। उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र की प्रवासियों संबंधी एक एजेंसी ने इस बात की पुष्टि की है कि पिछले दो सप्ताह में 2,70,000 रोहिंग्या म्यांमार छोड़कर बांग्लादेश गए हैं। कई रोहिंग्या आम नागरिक बांग्लादेश भाग गए हैं जिसके कारण वहां राहत शिविर खचाखच भर गए हैं। इन शिविरों में पहले से ही क्षमता से अधिक लोग हैं और इससे मानवीय संकट का खतरा पैदा हो गया है। म्यांमार के राखिन राज्य में संघर्ष से बचकर भागने की कोशिश में कई और लोगों की मौत हो गई है। 

राखिन में प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि 25 अगस्त को रोहिंग्या चरमपंथियों ने समन्वित हमले शुरू किए थे जिसके बाद से पूरे के पूरे गांवों को जला दिया गया। रोहिंग्या उग्रवादियों के हमले के बाद सेना के नेतृत्व में कार्रवाई की गई थी। निक्की ने कहा कि पिछले सप्ताह से राखिन में हालात खराब होते जा रहे हैं। बयान में कहा गया है कि अमेरिका निर्दोष नागरिकों के खिलाफ हमलों की लगातार आ रही रिपोर्ट के बहुत चिंतित है और वह म्यांमार के सुरक्षा बलों से अपील करता है कि वे अपने सुरक्षा अभियानों के दौरान इन आम नागरिकों का सम्मान करें। उन्होंने कहा, ‘आम नागरिकों पर हमले जमीनी स्तर पर हिंसा को भड़काएंगे और राखिन राज्य में सभी समुदायों को लाभ पहुंचाने वाली अन्नान आयोग की सिफारिशों के त्वरित क्रियान्यवयन समेत दीर्घकालिक समाधानों की हर उम्मीद को भी खत्म कर देंगे।’

इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन फॉर माइग्रेशन IOM ने इस बात की पुष्टि की है कि पिछले दो सप्ताह में म्यांमार में हिंसा से बचने के लिए 2,70,000 लोग बांग्लादेश आए हैं और आने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। निक्की ने कहा कि अमेरिका इस बात का स्वागत करता है कि म्यांमार सरकार हिंसा के कारण विस्थापित हुए सभी लोगों को मानवीय सहायता मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है। अमेरिका म्यांमार से यह सुनिश्चित करने की भी अपील करता है कि यह मदद वास्तव में उन लोगों के पास जल्द से जल्द पहुंचे, जिन्हें इसकी आवश्यकता है और यह मदद इस तरह मुहैया कराई जाएं जिससे उनके अधिकारों एवं गरिमा का भी सम्मान हो।

India TV Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban