1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. जानें, IS का समर्थन करने वाले इस बांग्लादेशी प्रवासी को लेकर क्यों नरम हैं अमेरिकी अधिकारी

जानें, IS का समर्थन करने वाले इस बांग्लादेशी प्रवासी को लेकर क्यों नरम हैं अमेरिकी अधिकारी

पूरी दुनिया को आतंक का खौफनाक चेहरा दिखाने वाले इस्लामिक स्टेट के एक पूर्व समर्थक को लेकर अमेरिकी अधिकारी नरमी बरतने की बात कह रहे हैं...

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: June 28, 2018 16:13 IST
US authorities seek leniency for Bangladeshi Islamic State cooperator | AP- India TV
US authorities seek leniency for Bangladeshi Islamic State cooperator | AP File

न्यूयॉर्क: पूरी दुनिया को आतंक का खौफनाक चेहरा दिखाने वाले इस्लामिक स्टेट के एक पूर्व समर्थक को लेकर अमेरिकी अधिकारी नरमी बरतने की बात कह रहे हैं। इस बांग्लादेशी प्रवासी ने कबूल किया था कि वह इस्लामिक स्टेट की मदद करने के लिए सीरिया गया था, लेकिन इसके बाद उसका मोहभंग हो गया। पूरा मामला सामने आने के बाद अधिकारियों का कहना है कि इस व्यक्ति को अपना हृदय परिवर्तन होने और आतंकवादी खतरों के बारे में FBI को समय रहते खुफिया सूचना देने का श्रेय मिलना चाहिए। 

प्रतिशोध के डर से अपना नाम ‘जॉन डो’ रखने वाला, न्यूयॉर्क का यह व्यक्ति एक संघीय अदालत में बुधवार को उस समय रो पड़ा था जब उसे सजा सुनाई गई। अदालत में उसने आतंकवादी संगठन की मदद करने के लिए अपने आप को ‘बेवकूफ’ बताया। इस शख्स ने कहा कि उसका जल्द ही कुख्यात आतंकवादी संगठन से मोहभंग हो गया था। उसने अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज जैक वीन्स्टीन से कहा, ‘मैंने अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती की। मैं बेवकूफ और भटका हुआ था तथा मैंने अपने आप को खतरे में पाया।’

जज ने उसे जेल भेजने या रिहाई के बाद उस पर नजर रखने के संबंध में अपना फैसला गुरूवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया है। संघीय अभियोजक आतंकवाद से जुड़े मामलों में लंबी सजा की मांग करते हैं लेकिन इस व्यक्ति का मामला अलग है क्योंकि उसने खुफिया सूचना दी थी कि इस्लामिक स्टेट स्वयंभू ‘खलीफा’ बनने की कोशिश कर रहा है जो अमेरिका के लिए एक खतरा पेश करता है। इस शख्स ने दुनिया के ‘सबसे खतरनाक संगठन’ के खिलाफ काम करने का मौका मिलने पर शुक्रिया भी अदा किया।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment