1. You Are At:
  2. होम
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. अमेरिका: यौन उत्पीड़न में 50 साल कैद की सजा काट रहा था शख्स, एक कुत्ते ने यूं बचा लिया

अमेरिका: यौन उत्पीड़न में 50 साल कैद की सजा काट रहा था शख्स, एक कुत्ते ने यूं बचा लिया

इस कुत्ते की वजह से 50 साल कैद की सजा काट रहे शख्स की रिहाई संभव हो पाई।

Edited by: IndiaTV Hindi Desk [Published on:11 Sep 2018, 9:44 PM IST]
Dog saves man accused of sexual assault from 50-year prison sentence in Oregon | Pixabay Representat- India TV
Dog saves man accused of sexual assault from 50-year prison sentence in Oregon | Pixabay Representational

सलेम: अमेरिका के ऑरेगन प्रांत में एक शख्स के लिए एक लेब्राडोर कुत्ता मसीहा बनकर आया। इस कुत्ते की वजह से 50 साल कैद की सजा काट रहे शख्स की रिहाई संभव हो पाई। यौन उत्पीड़न मामले में 50 साल की सजा पाने वाले इस व्यक्ति को एक कुत्ते का पता चलने के बाद रिहा कर दिया गया। दरअसल, आरोपी जोश हार्नर पर यौन उत्पीड़न के साथ यह भी आरोप था कि उसने पीड़ित लड़की के सामने एक कुत्ते को भी गोली मारी थी।

लड़की ने जोशुआ हॉर्नर नाम के इस शख्स पर आरोप लगाया था कि उसने उसका यौन शोषण किया और पुलिस को कुछ भी बताने पर उसके कुत्तों को मारने की धमकी दी। लड़की ने कहा था कि अपनी बात को वजन देने के लिए जोशुआ ने उसके काले रंग के लेब्राडोर कुत्ते को गोली मार दी थी। इस मामले में जोशुआ को 50 साल की सजा सुनाई गई, जिसके बाद उसने ऑरेगॉन इनोसेंस प्रॉजेक्ट की मदद ली और बार-बार कहा कि उसने किसी भी कुत्ते को गोली नहीं मारी थी।

जब प्रॉजेक्ट की टीम कुत्ते की खोज में लगी तब चौंकाने वाली वारदात हुई। मामले की विश्वसनीयता उस समय संदेह के घेरे में आ गई जब वह कुत्ता जिंदा पाया गया और पता चला कि उसे कभी गोली नहीं लगी थी। यह खुलासा होने के बाद डेसचुटेस काउंटी के डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी जॉन हमेल ने सोमवार को यह मामला खारिज करते हुए आरोपी को बरी कर दिया। अटॉर्नी ने कहा कि हो सकता है कि जोशुआ ने यौन शोषण किया हो लेकिन कुत्ते के जिंदा पाए जाने के बाद लड़की के आरोप संदिग्ध हैं।

इंडिया टीवी 'फ्री टू एयर' न्यूज चैनल है, चैनल देखने के लिए आपको पैसे नहीं देने होंगे, यदि आप इसे मुफ्त में नहीं देख पा रहे हैं तो अपने सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करें।
Write a comment
pulwama-attack
australia-tour-of-india-2019