1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. रूस का भारत को हथियार निर्यात 2009-13 से 2014- 18 के बीच 42 फीसदी गिरा

रूस का भारत को हथियार निर्यात 2009-13 से 2014- 18 के बीच 42 फीसदी गिरा

रूस का भारत को हथियार निर्यात 2009-13 और 2014-18 के बीच 42 प्रतिशत तक गिरा है। भारत दुनिया में प्रमुख हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा आयातक है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 11, 2019 22:37 IST
Russian arms exports to India fell by 42 per cent between 2014-18 and 2009-13: Report- India TV
Russian arms exports to India fell by 42 per cent between 2014-18 and 2009-13: Report

वाशिंगटन: रूस का भारत को हथियार निर्यात 2009-13 और 2014-18 के बीच 42 प्रतिशत तक गिरा है। भारत दुनिया में प्रमुख हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा आयातक है। स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) ने अपनी रपट में यह जानकारी दी। सीपरी की" अंतरराष्ट्रीय हथियार लेन-देन का रुख -2018" रपट के अनुसार 2009-13 के बीच भारत के कुल हथियार आयात में रूस से आयातित हथियारों का हिस्सा 76 फीसदी था जो 2014-18 में घटकर 58 फीसदी रह गया।

रपट के अनुसार , 2009-13 के मुकाबले 2014-18 में देश में हथियारों का कुल आयात 24 प्रतिशत घटा है। आयात के आंकड़ों में कमी की एक अहम वजह विदेशी आपूर्तिकर्ताओं से लाइसेंस के तहत होने वाली हथियारों की आपूर्ति में देरी होना भी है। हालांकि, इन सबके बावजूद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा हथियार आयातक देश है। वैश्विक हथियार आयात में भारत का हिस्सा साढ़े नौ प्रतिशत के करीब है। वित्त वर्ष 2014-18 में अमेरिका , फ्रांस और इजरायल से भारत को हथियारों का निर्यात बढ़ा है।

इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान का हथियार आयात 2009-13 और 2014-18 के बीच 39 प्रतिशत घटा है। पाकिस्तान को अमेरिका सैन्य सहायता या हथियारों की बिक्री करने से परहेज कर रहा है। इस दौरान , अमेरिका का पाकिस्तान को हथियार निर्यात 81 प्रतिशत तक गिरा है। वर्ष 2014-18 में दुनिया के सबसे बड़े हथियार निर्यातकों में अमेरिका, रूस, फ्रांस, जर्मनी और चीन रहे जबकि सऊदी अरब, भारत, मिस्त्र, ऑस्ट्रेलिया और अलजीरिया सबसे बड़े आयातकों में शामिल रहे।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment