1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. क्यूबा ने अमेरिकी डिप्लोमैट्स के दिमाग के साथ किया खेल? अडवांस MRI में निकली ये बात

क्यूबा ने अमेरिकी डिप्लोमैट्स के दिमाग के साथ किया खेल? अडवांस MRI में निकली ये बात

क्यूबा की राजधानी हवाना में 2016 से 2018 के बीच नियुक्त रहे अमेरिका और कनाडा के राजनयिकों में दिखे अजीबो-गरीब लक्षणों का रहस्य और गहरा गया है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 24, 2019 12:52 IST
Cuba 'sonic attacks' changed people's brains, suggests study | Pixabay Representational- India TV
Cuba 'sonic attacks' changed people's brains, suggests study | Pixabay Representational

शिकागो: क्यूबा की राजधानी हवाना में 2016 से 2018 के बीच नियुक्त रहे अमेरिका और कनाडा के राजनयिकों में दिखे अजीबो-गरीब लक्षणों का रहस्य और गहरा गया है। इन अमेरिकी राजनयिकों के मस्तिष्क का अडवांस MRI दिखाता है कि उसमें कुछ अजीब बदलाव हैं जो किसी बीमारी या दुर्घटना के कारण नहीं हुए हैं। पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने अडवांस MRI में पाया कि स्वस्थ लोगों के मुकाबले हवाना में तैनाती के दौरान उन लक्षणों के शिकार रहे लोगों के मस्तिष्क में व्हाइट मैटर कम है और कुछ अन्य संरचनात्मक बदलाव भी हैं।

कर्मचारियों को हो गई थीं कई दिक्कतें

इन कर्मचारियों को संतुलन खोने, सोने में दिक्कत, सोचने में समस्या, सिर में दर्द और अन्य दिक्कतें थीं। इन्हें देखते हुए अंदाजा लगाया गया था कि ‘ब्रेन स्टेम’ के पास सेरेबेलम प्रभावित हुआ होगा, लेकिन इसके उलट MRI में उन्होंने मस्तिष्क को जोड़ने वाले उत्तकों के पैटर्न में काफी फर्क देखा। विश्वविद्यालय की ब्रेन इमेजिंग विशेषज्ञ और मुख्य अध्ययनकर्ता रागिनी वर्मा का कहना है कि इन राजनयिकों के मस्तिष्क में उत्तकों का पैटर्न किसी भी बीमारी या जख्म के कारण बनने वाले पैटर्न से बहुत अलग है। वर्मा ने कहा, ‘यह बहुत अजीब है। यह वाकई में मेडिकल का रहस्य है।’

क्यूबा की राजधानी हवाना में स्थित अमेरिकी दूतावास के सामने से गुजरती गाड़ियां | AP File

क्यूबा की राजधानी हवाना में स्थित अमेरिकी दूतावास के सामने से गुजरती गाड़ियां | AP File

‘कुछ तो हुआ है, लेकिन पता नहीं चल रहा’
इस अध्ययन पर साथ काम करने वाले और पेन में ‘ब्रेन इंजरी’ विशेषज्ञ डॉक्टर रैंडल स्वानसन का कहना है कि इसमें दो राय नहीं है कि कुछ हुआ है, लेकिन इमेजिंग के जरिए यह तय नहीं किया जा सकता कि क्या हुआ है। हालांकि एक अन्य विशेषज्ञ एवं एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में न्यूरोलॉजिस्ट जॉन स्टोन का कहना है कि अध्ययन से इसकी पुष्टि नहीं होती है कि मस्तिष्क में कोई चोट आई है और न ही इसकी पुष्टि होती है कि मस्तिष्क में जो फर्क आया है, वह क्यूबा में राजनयिकों को महसूस हुई अजीबो-गरीब चीजों के कारण है। स्टोन अध्ययन में शामिल नहीं थे।

क्यूबा ने हमले से किया इनकार
क्यूबा ने हालांकि किसी भी तरह के हमले से इनकार किया है लेकिन इस घटना ने अमेरिका के साथ उसके संबंधों में तनाव पैदा कर दिया है। इस संबंध में अमेरिकी मामलों के क्यूबा के उपप्रमुख जोहान तबाल्दा का कहना है, ‘आज प्रकाशित लेख से हालात में कोई बदलाव नहीं आया है। लेख में कहा गया है कि जो बदलाव आए हैं वे बहुत कम हैं। उनके निष्कर्ष अनिश्चित हैं। वे कारणों की पहचान भी नहीं कर सके हैं।’ यह अध्ययन मंगलवार को ‘जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन’ में प्रकाशित हुआ है।

अमेरिका ने कहा, 26 कर्मचारी प्रभावित हुए
इसके बाद अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि उसे अध्ययन की जानकारी है। वह इस बेहद जटिल मुद्दे पर चर्चा के लिए मेडिकल समुदाय को धन्यवाद देता है, लेकिन विभाग की सर्वोच्च प्राथमिकता अपने कर्मचारियों की रक्षा, सुरक्षा और कल्याण है। 2016 से 2016 के बीच हवाना में नियुक्त अमेरिका और कनाडा के कई राजनयिकों को अज्ञात कारणों से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें आईं। अमेरिका सरकार का कहना है कि उसके 26 कर्मचारी इससे प्रभावित हुए थे।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment