1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. समुद्र की सुरक्षा यूं और पुख्ता करेंगे भारत और अमेरिका, HOASTAC पर बनी सहमति

समुद्र की सुरक्षा यूं और पुख्ता करेंगे भारत और अमेरिका, HOASTAC पर बनी सहमति

दोनों ही देश समुद्री सुरक्षा को मजबूत करने के लिए हेलीकॉप्टर ऑपरेशंस फ्रॉम शिप्स अदर दैन एयरक्राफ्ट कैरियर्स (HOSTAC) के लिए कार्यक्रम लागू करने पर सहमत हो गए हैं...

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: October 27, 2017 14:57 IST
Representational Image | AP Photo- India TV
Representational Image | AP Photo

वॉशिंगटन: समुद्री सुरक्षा को लेकर भारत और अमेरिका के बीच एक बेहद ही अहम कार्यक्रम पर समहमति बन गई है। दोनों ही देश समुद्री सुरक्षा को मजबूत करने के लिए हेलीकॉप्टर ऑपरेशंस फ्रॉम शिप्स अदर दैन एयरक्राफ्ट कैरियर्स (HOSTAC) के लिए कार्यक्रम लागू करने पर सहमत हो गए हैं। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और उनके अमेरिकी समकक्ष जिम मैटिस ने आसियान के रक्षा मंत्रियों की बैठक से इतर बुधवार को फिलीपींस में मुलाकात के दौरान इस बारे में फैसला लिया।

पेंटागन की प्रवक्ता डाना डब्ल्यू व्हाइट ने कहा, ‘दोनों ने समुद्री सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने की महत्ता पर जोर दिया और इस उद्देश्य के लिए हेलीकॉप्टर ऑपरेशंस फ्रॉम शिप्स अदर दैन एयरक्राफ्ट कैरियर्स (HOSTAC) के लिए कार्यक्रम लागू करने का फैसला लिया। व्हाइट ने बताया कि सीतारमण और मैटिस नियमों पर आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की महत्ता पर सहमत हुए जिसमें सभी राष्ट्र समृद्ध बनने के लिए सक्षम हों। उन्होंने बताया कि दोनों ही देशों ने आतंकवाद के साझा खतरों के खिलाफ एक साथ मिलकर काम करने की जरूरत पर भी सहमति जताई।

डाना व्हाइट ने बताया कि दोनों नेताओं ने अमेरिका-भारत रक्षा सहयोग मजबूत करने और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत के नेतृत्व की भूमिका को बढ़ाने के कई कदमों पर चर्चा की। एक माह से भी कम समय में यह उनकी दूसरी मुलाकात है। मैटिस पिछले महीने भारत गए थे। गौरतलब है कि भारत और अमेरिका के बीच बढ़ रहे रक्षा संबंधों के बीच चीन ने कई बार अपनी असहजता के बारे में भी बताया है। हालांकि भारत और अमेरिका का समुद्र में यह गठजोड़ क्या रंग लाता है, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
budget-2019