1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. जानें, पूरे अंटार्कटिका महाद्वीप को अकेले पार करने वाले दुनिया के पहले शख्स के बारे में

जानें, पूरे अंटार्कटिका महाद्वीप को अकेले पार करने वाले दुनिया के पहले शख्स के बारे में

कोलिन बगैर किसी मदद के अंटार्कटिका को पार करने वाले दुनिया के पहले शख्स बन गए हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: December 27, 2018 13:28 IST
Colin O'Brady of United States becomes the first person to complete a solo Antarctica crossing | AP- India TV
Colin O'Brady of United States becomes the first person to complete a solo Antarctica crossing | AP

वॉशिंगटन: अंटार्कटिका हमारी धरती का एक ऐसा हिस्सा है जो आज भी अधिकांश लोगों के लिए पहेली की तरह है। धरती का यह हिस्सा काफी हद तक हमसे कटा हुआ है और यहां पर रहना काफी चुनौतीपूर्ण माना जाता है। हालांकि अमेरिका के कोलिन ओ’ब्रैडी ने अंटार्कटिका की सबसे बड़ी चुनौती स्वीकार की और पूरे महाद्वीप को अकेले ही पार कर दिया। कमाल की बात यह है कि कोलिन बगैर किसी मदद के अंटार्कटिका को पार करने वाले दुनिया के पहले शख्स बन गए हैं।

33 वर्षीय कोलिन ओ’ब्रैडी को उत्तर से दक्षिण तक बर्फ की चादर से ढके इस महाद्वीप की करीब 1,600 किलोमीटर की यात्रा पूरी करने में 54 दिन लगे। अंतिम 77.5 मील की यात्रा 32 घंटे में पूरी करने के बाद ओ’ब्रैडी ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में लिखा, ‘मैंने अकेले अंटार्कटिका महाद्वीप को पार करने वाला इतिहास में पहला व्यक्ति बनने का अपना लक्ष्य हासिल कर लिया। हालांकि आखिरी 32 घंटे मेरी जिंदगी के सबसे चुनौतीपूर्ण घंटे रहे लेकिन साथ ही वे अभी तक के सबसे अच्छे क्षण साबित हुए।’

View this post on Instagram

Day 54: FINISH LINE!!! I did it! The Impossible First ✅. 32 hours and 30 minutes after leaving my last camp early Christmas morning, I covered the remaining ~80 miles in one continuous “Antarctica Ultramarathon” push to the finish line. The wooden post in the background of this picture marks the edge of the Ross Ice Shelf, where Antarctica’s land mass ends and the sea ice begins. As I pulled my sled over this invisible line, I accomplished my goal: to become the first person in history to traverse the continent of Antarctica coast to coast solo, unsupported and unaided. While the last 32 hours were some of the most challenging hours of my life, they have quite honestly been some of the best moments I have ever experienced. I was locked in a deep flow state the entire time, equally focused on the end goal, while allowing my mind to recount the profound lessons of this journey. I’m delirious writing this as I haven’t slept yet. There is so much to process and integrate and there will be many more posts to acknowledge the incredible group of people who supported this project. But for now, I want to simply recognize my #1 who I, of course, called immediately upon finishing. I burst into tears making this call. I was never alone out there. @jennabesaw you walked every step with me and guided me with your courage and strength. WE DID IT!! We turned our dream into reality and proved that The Impossible First is indeed possible. “It always seems impossible until it’s done.” - Nelson Mandela. #TheImpossibleFirst #BePossible

A post shared by Colin O'Brady (@colinobrady) on


ओ’ब्रैडी और इंग्लैंड के सेना कैप्टन लुईस रुड (49) ने 3 नवंबर को अंटार्कटिक पार करने की यात्रा शुरू की थी। ओ’ब्रैडी बुधवार को प्रशांत महासागर पर रॉस आईस शेल्फ पर पहुंचे। रुड उनसे एक या दो दिन पीछे हैं। साल 2016 में इंग्लैंड के एक सेना अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल हेनरी वोर्सली की अकेले अंटार्कटिका पार करने की कोशिश में मौत हो गई थी। आपको बता दें अंटार्कटिका दुनिया के सबसे निर्जन स्थानों में से एक है और आमतौर पर यहां सिर्फ शोधार्थी और वैज्ञानिक ही रहते हैं।

India TV Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban