1. You Are At:
  2. होम
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. अमेरिकी परेडों में गे प्राइड का जश्न, ओरलैंडो पीड़ितों का सम्मान

अमेरिकी परेडों में गे प्राइड का जश्न, ओरलैंडो पीड़ितों का सम्मान

हजारों अमेरिकी नागरिकों ने समलैंगिकों के सम्मान में गे प्राइड का जश्न मनाने के लिए, ओरलैंडो में मारे गए लोगों के सम्मान में और सहिष्णुता को बढ़ावा देने के लिए न्यूयार्क से लेकर सैन फ्रांसिस्को तक मार्च निकाला।

Bhasha [Published on:27 Jun 2016, 12:45 PM IST]
Gay Pride PARADE - India TV
Gay Pride PARADE

न्यूयॉर्क: हजारों अमेरिकी नागरिकों ने समलैंगिकों के सम्मान में गे प्राइड का जश्न मनाने के लिए, ओरलैंडो में मारे गए लोगों के सम्मान में और सहिष्णुता को बढ़ावा देने के लिए न्यूयार्क से लेकर सैन फ्रांसिस्को तक मार्च निकाला। अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन भी रविवार को न्यूयॉर्क में परेड के रास्ते के अंतिम बिंदु पर जाकर इस आयोजन में शामिल हुईं। सैन फ्रांसिस्को में भीड़ की आवाजों के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक संगीत गूंज रहा था। एक समूह ने अपने हाथों में ओरलैंडो के पीडि़तों की तस्वीरों वाले बोर्ड पकड़े हुए थे।

राज्य एवं शहर के निर्वाचित डेमोक्रेट सदस्यों के साथ इस आयोजन में हिस्सा लेने वाली हिलेरी ने ट्वीट किया, एक साल पहले, हमारी शीर्ष अदालत में प्यार की जीत हो गई थी। लेकिन एलजीबीटी अमेरिकियों को अब भी कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है। आइए, तब तक मार्च करते रहें, जब तक उनकी बाधाएं समाप्त न हो जाएं। हिलेरी दरअसल अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के एक साल पहले के फैसले का संदर्भ दे रही थीं। उस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने देश में समलैंगिक विवाह को वैध करार दे दिया था।

इस ग्रह पर सबसे ज्यादा विविधताओं वाले शहरों में से एक होने का गौरव रखने वाला न्यूयार्क कई समलैंगिक अधिकार आंदोलनों की जन्मभूमि रहा है। इस परेड से कुछ ही दिन पहले, राष्ट्रपति बराक ओबामा ने शहर के स्टोनवॉल इन को अमेरिका का पहला एलजीबीटी राष्ट्रीय स्मारक करार दिया था। यहां वर्ष 1969 में पुलिस कार्रवाई के बाद हुए विरोध प्रदर्शनों को स्टोनवॉल विद्रोह कहा जाता है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Web Title: अमेरिकी परेडों में गे प्राइड का जश्न, ओरलैंडो पीड़ितों का सम्मान
Write a comment