1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. यूरोप
  5. रूस ने यूक्रेन की नौसेना के 3 जहाजों पर किया कब्जा, छिड़ सकती है जंग, UNSC ने बुलाई आपात बैठक

रूस ने यूक्रेन की नौसेना के 3 जहाजों पर किया कब्जा, छिड़ सकती है जंग, UNSC ने बुलाई आपात बैठक

रूस ने अपने कब्जे वाले क्रीमिया के पास एक जलसंधि वाले क्षेत्र से यूक्रेन के 3 नौसैनिक पोतों को पकड़ लिया है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: November 26, 2018 14:00 IST
Russia-Ukraine tensions rise after Kerch Strait ship capture | AP Representational- India TV
Russia-Ukraine tensions rise after Kerch Strait ship capture | AP Representational

कीव: रूस ने अपने कब्जे वाले क्रीमिया के पास एक जलसंधि वाले क्षेत्र से यूक्रेन के 3 नौसैनिक पोतों को पकड़ लिया है। इस घटना के बाद अब सैन्य दखल की आशंका बढ़ गई है जिसे देखते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सोमवार को एक आपात बैठक बुलाई है। इस बीच सोमवार तड़के यूक्रेन ने कहा कि वह देश में मार्शल लॉ लागू करेगा। यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेकों ने ट्वीट कर कहा कि रविवार को रूसी तटरक्षक बलों की कार्रवाई के बाद वह मार्शल लॉ लागू करने के लिए संसद में एक प्रस्ताव पेश करेंगे।

एक अप्रत्याशित घटना में रूस ने कहा कि उसने ‘यूक्रेन की सेना को रोकने के लिए हथियारों का इस्तेमाल किया।’ रूस का दावा है कि ये पोत उसके जलक्षेत्र में अवैध तरीके से घुस आए थे साथ ही पुष्टि की कि यूक्रेन के तीन नौसैनिक पोतों पर चढ़कर उनकी तलाशी ली गई। यूक्रेन की नौसेना का कहना है कि घटना रविवार को हुई जब 2 छोटे युद्धपोत और एक टगबोट केर्च जलडमरूमध्य से गुजर रही थी। यह रास्ता एवोज सागर तक जाता है, जिसका इस्तेमाल यूक्रेन और रूस दोनों देश करते हैं।

नौसेना ने बताया कि रूस के सीमा सुरक्षा पोत ने खुली आक्रमक कार्रवाई करते हुए टगबोट को टक्कर मारी और इसके बाद जहाजों पर गोलियां चलाईं। समुद्र में लंबे समय से यूक्रेन और रूस के बीच चले आ रहे संघर्ष को देखते हुए एक खतरनाक कदम के तौर पर देखा जा रहा है। इसबीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मॉस्को से जुड़े क्रीमिया के निकट एक जलसंधि में बलपूर्वक यूक्रेन के तीन नौसैनिक पोतों को जब्त कर लेने की रूस के पुष्टि करने के बाद एक आपात बैठक बुलाई है। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने यह जानकारी दी।

वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरेशेंको ने संसद में इस बात पर मतदान कराने को कहा है कि क्या देश में 60 दिन के लिए मार्शल लॉ लागू किया जाए। देश की सैन्य कैबिनेट ने देर रात बैठक में यह सुझाव दिया है। राष्ट्रपति ने एक बयान में कहा, ‘मैं इस बात पर अलग से जोर देना चाहता हूं कि हमारे पास इस बात के सबूत हैं कि यह आक्रमण, यूक्रेन के नौसैनिक युद्धपोतों पर यह हमला गलती से नहीं, कोई दुर्घटना नहीं बल्कि जानबूझ कर किया गया हमला है।’ यूक्रेन ने कहा कि उसके 6 सैनिक घायल हो गए।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment