1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. चीन को दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी जहाज के गुजरने पर एतराज

चीन को दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी जहाज के गुजरने पर एतराज

 चीन ने दक्षिण चीन सागर (एससीएस) में उसके दावे वाले एक चट्टान के पास के क्षेत्र से एक अमेरिकी नौसैनिक जहाज के गुजरने को लेकर कड़ा विरोध दर्ज किया है।

Bhasha Bhasha
Published on: May 20, 2019 18:44 IST
america china - India TV
Image Source : AP दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी जहाज के गुजरने से चीन नाराज

बीजिंग। चीन ने दक्षिण चीन सागर (एससीएस) में उसके दावे वाले एक चट्टान के पास के क्षेत्र से एक अमेरिकी नौसैनिक जहाज के गुजरने को लेकर कड़ा विरोध दर्ज किया है। चीने सोमवार को अमेरिकी नौसैनिक जहाज के एससीएस में आ जाने को भड़काऊपूर्ण कृत्य करार दिया और कहा कि वह नौवहन की आजादी को उसकी संप्रभुता को धत्ता बनाने के बहाने के रूप में इस्तेमाल करने के अमेरिका के प्रयास का कड़ा विरोध करता है। 

अमेरिकी सेवेंथ फ्लीट के प्रवक्ता कमांडर क्ले डॉस ने मीडिया को बताया कि अमेरिकी विध्वंसक अत्यधिक समुद्री दावों को चुनौती देने तथा अंतराष्ट्रीय कानून के अनुसार जलमार्ग तक पहुंच को सुरक्षित रखने के लिए प्रीबल जहाज स्कारबोरो रीफ के 12 नौटिकल मील दायरे से गुजरा। हाल के महीनों में दक्षिण चीन सागर में चीन के दावे वाले क्षेत्रों से गुजरने वाला यह दूसरा अमेरिकी नौसैनिक जहाज है। बुधवार को अमेरिकी नौसेना के प्रमुख ने कहा कि ऐसे अभियानों पर लोगों का जरूरत से ज्यादा ध्यान जाता है। 

चीनी अधिकारियों का कहना है कि दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी जंगी जहाजों की उपस्थिति हाल ही में ज्यादा हो गयी है। वे इसे दोनों देशों के बीच वर्तमान व्यापार युद्ध को लेकर चीन को दबाव में लाने की कोशिश के रूप में देखते हैं। अमेरिका दक्षिण चीन सागर में नौवहन की आजादी पर जोर देने के प्रयास के तहत वहां बार-बार अपने नौसैनिक जहाजों और विमानों के जाने का बचाव करता रहा है। दक्षिण चीन सागर में चीन के साथ ही वियतनाम, मलेशिया, फिलीपीन, ब्रुनेई और ताईवान भी दावा करते हैं। 

अमेरिकी जहाज की उपस्थिति पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्त लु कांग ने कहा कि प्रीबल चीन सरकार की अनुमति के बगैर प्रवाल भित्ति के आसपास के समुद्री क्षेत्र से गुजरा। उन्होंने कहा कि चीनी नौसैनिक जहाज की पहचान की गयी है, उसका सत्यापन किया गया और कानून के अनुसार उसे चेतावनी दी गयी। मैं कहना चाहूंगा कि अमेरिकी जहाज के कृत्य से चीन की संप्रभुता, संबंधित समुद्री क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा तथा अच्छी व्यवस्था का उल्लंघन हुआ है। उन्होंने कहा कि चीन उसकी निंदा करता है और कड़ा विरोध करता है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment