1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. चक्रवात ‘बुलबुल’ ने बांग्लादेश में ढाया कहर, 10 की मौत, 21 लाख लोगों को को हटाया गया

चक्रवात ‘बुलबुल’ ने बांग्लादेश में ढाया कहर, 10 की मौत, 21 लाख लोगों को को हटाया गया

चक्रवात के कारण हवाएं 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने लगीं जिसके कारण अधिकारियों को 21 लाख से अधिक लोगों को निचले इलाकों से बाहर निकालना पड़ा।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: November 11, 2019 7:29 IST
Bangladesh, Bangladesh Cyclone Bulbul, Cyclone Bulbul, Cyclone Bulbul Death- India TV
चक्रवाती तूफान बुलबुल ने इससे पहले भारत में भी काफी तबाही मचाई थी | PTI

ढाका: बांग्लादेश में रविवार को चक्रवात ‘बुलबुल’ के कारण कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई। साथ ही इस चक्रवात से होने वाली तबाही की आशंका के मद्देनजर निचले इलाकों में रह रहे 21 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। चक्रवात के कारण हवाएं 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने लगीं जिसके कारण अधिकारियों को 21 लाख से अधिक लोगों को निचले इलाकों से बाहर निकालना पड़ा। बांग्लादेश की मीडिया में बताया गया है कि चक्रवात बुलबुल के कारण 10 लोगों की जान चली गई। बहरहाल, आपदा प्रबंधन मंत्रालय ने केवल 8 लोगों की मौत की पुष्टि की।

आपदा प्रबंधन मंत्रालय के सचिव शाह कमाल ने बताया, ‘हमारे तटों पर चक्रवात के पहुंचने के कारण 8 लोगों की मौत हो गई जिनमें से अधिकतर लोगों की मौत 6 तटीय जिलों में घर ढहने और पेड़ गिरने के कारण हुई।’ अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के कारण सैकड़ों घरों को भी नुकसान पहुंचा है। बांग्लादेश के अधिकारी बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में मछलियां पकड़ने की नौकाओं और ट्रॉलरों पर रोक के साथ ही नदियों में नौकाओं के आवागमन पर पहले ही अस्थायी रोक लगा चुके हैं। स्वास्थ्य निदेशालय के स्वास्थ्य आपातकाल संचालन केंद्र और नियंत्रण कक्ष ने रविवार को आठ लोगों के मौत की पुष्टि की।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के दौरान पेड़ों के उखड़ने के कारण खुलना के दिघालिया और डाकोप उपजिले में 2 लोगों की मौत हो गई जबकि पतुआखाली में एक घर पर पेड़ गिरने के कारण एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई। चक्रवात के कारण सैकड़ों मकान और कई हेक्टेयर फसल तबाह हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के कारण जितनी तबाही होने की आशंका थी, उससे कम नुकसान हुआ है। बांग्लादेश के मौसम विज्ञान विभाग ने रविवार को एक विशेष बुलेटिन में बताया कि चक्रवात कमजोर हो गया है और इसने भारत के पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के दक्षिण-पश्चिम खुलना तट से ‘गुजरना शुरू कर’ दिया है।

आपदा मंत्रालय के सचिव कमाल ने बताया कि शुरुआत में 5,000 आश्रय गृहों में 14 लाख लोगों को रखने की योजना थी लेकिन शनिवार आधी रात को यह संख्या बढ़कर 21 लाख हो गई। चक्रवात के कारण 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। यह चक्रवात ऐसे समय में आया है जब पूर्णिमा आने वाली है। पूर्णिमा में समुद्र का जलस्तर बढ़ जाता है। ऐसे में चक्रवात आने के कारण तबाही की आशंका पैदा हो गई। चक्रवात गंगासागर के किनारे टकराया और यह ‘खुलना’ क्षेत्र की ओर बढ़ा जिसमें सुंदरवन भी आता है। (भाषा)

India TV Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
bigg-boss-13