1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. Lion Air Crash Updates: 188 यात्रियों के साथ समुद्र में गिरा विमान, भारतीय पायलट भाव्‍य सुनेेेेजा उड़ा रहे थे विमान

Lion Air Plane Crash Latest Updates: 188 यात्रियों के साथ समुद्र में गिरा विमान, भारतीय पायलट भाव्‍य सुनेेेेजा उड़ा रहे थे विमान

इंडोनेशिया में सोमवार सुबह उड़ान भरने के बाद एक विमान विमान के गायब होने की खबर है।

India TV Tech Desk India TV Tech Desk
Updated on: October 29, 2018 14:35 IST
Lion Air - India TV
Lion Air 

जकार्ता: इंडोनेशिया में सोमवार सुबह उड़ान भरने के बाद गायब हुआ लायन एयर का विमान समुद्र में क्रैश हो गया। इंडोनेशिया के समुद्र तट के नज़दीक राहत और बचाव का काम शुरू कर दिया गया है। खोज अभियान के अधिकारियों ने बताया कि जावा समुद्र तट के पास विमान के टुकड़े नजर आए हैं। लायन एयर का यह हादसा भारत के लिए भी बहुत दुखद है। प्राप्‍त जानकारी के अनुसार इस विमान को भारतीय पालट भव्‍य सुनेजा उड़ा रहे थे। 

इस बीच लॉयन एयर के सीईओ एडवर्ड सेइट ने बताया कि रविवार शाम को ही इस विमान में तकनीकी खराबी का पता चला था। उन्‍होंने बताया कि जब यह विमान डेनपसर से जकार्ता के बीच उड़ान पर था, तभी पायलटों ने विमान में तकनीकी खराबी के बारे में सूचित किया था। लेकिन विमान को आज उड़ान भरने से पहले इं‍जीनियरों में हरी झंडी दे दी थी। 

भव्य सुनेजा थे विमान के कैप्टन

सोमवार को 188 यात्री और चालक दल के सदस्यों के साथ समुद्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गये इंडोनेशियाई विमान लॉयन एयर के कैप्टन भारतीय पायलट भव्य सुनेजा थे। यह जानकारी एयरलाइन ने दी। विमान के कैप्टन सुनेजा थे और सह-पायलट हरविनो थे। इसमें चालक दल के छह सदस्य थे जिनमें तीन प्रशिक्षु थे। एक टेक्नीशियन भी विमान में सवार था। बयान के अनुसार, 31 वर्षीय सुनेजा को 6000 उड़ान घंटों का अनुभव था, वहीं सह-पायलट को 5000 से ज्यादा घंटे की उड़ान का अनुभव था। 

 13 मिनट के भीतर ही संपर्क टूटा

इस विमान ने आज सुबह जकार्ता एयरपोर्ट से पंगकल पिनांग के लिए उड़ान भरी थी, लेकिन उड़ान भरने के सिर्फ 13 मिनट के भीतर ही इसका संपर्क टूट गया। लायन एयर की इस JT-610 फ्लाइट पर क्रू मेंबर्स समेत कुल 189 यात्री सवार थे। इंडोनेशिया की सर्च ऐंड रेस्क्यू एजेंसी ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा है कि लायन एयर का यह विमान समुद्र में क्रैश हो गया है। खोज अभियान के अधिकारियों ने बताया कि जावा समुद्र तट के पास विमान के टुकड़े नजर आए हैं। गोताखोरों को विमान में जीवित बचे यात्रियों की खोज के लिए समुद्र में उतार दिया गया है। 

ऑस्‍ट्रेलिया ने कहा न इस्‍तेमाल करेंं लायन एयर

इस बीच ऑस्‍ट्रेलिया की सरकार ने भी लायन एयर की सेवाओं का प्रयोग न करने का आदेश दिया है। ऑस्‍ट्रेलिया ने अपने सरकारी अधिकारियों, और कॉन्‍ट्रेक्‍टर्स को गो एयर का प्रयोग न करने को कहा है। यह आदेश दुर्घटना की जांच पूरी होने तक लागू रहेगा। 

मिला मलबा

इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी ने हादसे का शिकार हुए विमान की कुछ तस्वीरें ट्विटर पर डालीं, जिनमें बुरी तरह टूट चुका एक स्मार्टफोन, किताबें, बैग, विमान के कुछ हिस्से दिख रहे हैं। दुर्घटना की जगह तक पहुंचे खोजी एवं बचाव पोतों ने यह सामान इकट्ठा किया है। JT-610 फ्लाइट ने जकार्ता से स्थानीय समयानुसार सोमवार सुबह 6:20 बजे टेकऑफ किया था, और इसे एक घंटे बाद पंगकल पिनांग पहुंचना था। एजेंसियों के मुताबिक, स्‍थानीय समय के मुताबिक करीब सुबह 6.33 मिनट पर एयर ट्रैफिक कंट्रोलर से विमान का संपर्क टूट गया था। बताया जा रहा है कि संपर्क टूटने से पहले पायलट ने प्लेन की वापसी का सिग्नल दिया था।

क्रैश हुआ यह विमान एक Boeing 737 MAX 8 था। सूत्रों के मुताबिक लॉयन एयर का दुर्घटनाग्रस्‍त विमान एकदम नया था और कुछ महीने पहले ही इसका परिचालन शुरू हुआ था। स्ट्रेट टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, विमान में कुल 188 यात्री सवार थे जिनमें 178 व्‍यस्‍क, 1 बच्चा, 2 नवजात, 2 पायलट और 5 फ्लाइट अटेंडेंट शामिल हैं।

आपको बता दें कि लायन एयर इंडोनेशिया की सबसे नई और बड़ी एयरलाइंस में से एक है। यह कंपनी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय गंतव्यों के लिए दर्जनों उड़ानों को संचालित करती है। ‘इंडोनेशियन टीवी’ ने विमान से ईंधन के निकल कर समुद्र में फैलने और विमान के मलबे के कुछ हिस्से की तस्वीरें दिखाई। राष्ट्रीय तलाश और बचाव एजेंसी (एनएसआरए) ने कहा कि पश्चिम जावा के पास समुद्र में यह विमान गिरा। यह जगह 30-35 मीटर (98-115 फुट) गहरी है। 


‘इंडोनेशियन टीवी’ ने दर्जनों लोगों को पांगकल पिनांग हवाई अड्डे के बाहर लोगों को बेचैनी में अपने परिजन से जुड़ी सूचना का इंतजार करते और अधिकारियों को प्लास्टिक की कुर्सियां लाते दिखाया। दिसंबर 2014 में एयरएशिया के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद यह इंडोनेशिया में सबसे बड़ा विमान हादसा है। एयरएशिया का विमान दुर्घटनाग्रस्त होने पर उसमें सवार सभी 162 लोग मारे गए थे। जकार्ता तलाश एवं बचाव दफ्तर ने अपनी रिपोर्ट में एक नौका के चालक दल के सदस्यों का हवाला दिया है। दरअसल, इस नौका के चालक दल के सदस्यों ने ही ‘लायन एयर’ के विमान को आसमान से गिरते देखने पर इस बारे में सूचित किया था।​

एनएसआरए की ओर से वायुसेना को भेजे गए एक टेलीग्राम में तलाश के काम में उसकी सहायता मांगी गई है। ‘लायन एयर’ इंडोनेशिया के सबसे बड़े एयरलाइनों में से एक है, जिसके दर्जनों विमान देश-विदेश की जगहों के लिए उड़ान भरते हैं। साल 2013 में ‘लायन एयर’ का एक बोइंग 737-800 विमान बाली में उतरते वक्त रनवे से फिसलकर समुद्र में चला गया था। हालांकि, इस घटना में विमान में सवार 108 लोगों में से किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ था। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment