1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. करतारपुर कॉरिडोर पर भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत, वाघा बॉर्डर पर हुई अधिकारियों की मीटिंग

करतारपुर कॉरिडोर पर भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत, वाघा बॉर्डर पर हुई अधिकारियों की मीटिंग

करतारपुर कॉरिडोर पर काम अपने अखिरी चरण में है। भारत ने इस काम को पूरा करने के लिए 31 अक्टूबर तक का लक्ष्य रखा है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: July 14, 2019 14:08 IST
- India TV
Image Source : PTI Kartarpur corridor talks latest update

नई दिल्ली: करतारपुर कॉरिडोर पर काम अपने अखिरी चरण में है। भारत ने इस काम को पूरा करने के लिए 31 अक्टूबर तक का लक्ष्य रखा है। जिससे गुरुनानक देव के 550वें जन्मोत्सव के मौके पर संगत करतारपुर साहिब के दर्शन कर सकें। ऐसे में आज भारत और पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर को लेकर महत्वपूर्ण बातचीत हुई। माना जा रहा है कि इस बातचीत में उन चीजों को लेकर चर्चा हुई जिनपर दोनों देशों के बीच अभी सहमती नहीं बन पाई है। बातचीत में भारत के लिए सबसे बड़ा मुद्दा श्रद्धालुओं की सुरक्षा का है। हालांकि, इसके बारे में कोई आधिकारिक बयान अभी नहीं आया है। ये बातचीत वाघा-अटारी बॉर्डर पर पाकिस्तान की तरफ हुई।

क्या चाहते हैं भारत और पाकिस्तान?

भारत की मांग पाकिस्तान की ज़िद​
हर रोज़ 5000 श्रद्धालु दर्शन के लिए जा सकें केवल 500 से 700 श्रद्धालुओं की इजाज़त
विशेष पर्वों पर 10 हज़ार श्रद्धालु जा सकें सिर्फ कुछ श्रद्धालुओं को ही जाने की इजाज़त
दर्शन के लिए कोई फीस नहीं होनी चाहिए दर्शन के लिए 20 डॉलर चुकाने होंगे
बिना फीस के श्रद्दालुओं को परमिट मिले  दर्शन के लिए वीज़ा की तर्ज पर परमिट फीस देनी होगी
श्रद्धालु अगर चाहें तो पैदल भी जा सकें श्रद्धालुओं को बस से ही जाना होगा
पाकिस्तान की तरफ ज़ीरो लाइन पर पुल बने पाकिस्तान पुल बनाने के लिए तैयार नहीं
एक या दो श्रद्धालु जाना चाहें तो जा सकें कम से कम 15 श्रद्धालुओं का ग्रुप जा पाएगा
श्रद्धालुओं को सप्ताह में किसी भी दिन जाने की छूट सप्ताह में कुछ ही दिन तय किए जाएंगे

इन सबके अलावा काम वक्त पर पूरा करने को लेकर भी चिंताएं जताई जा रही हैं। भारत ने सिंतंबर तक ही काम पूरा हो जाने की तैयारी की है। वहीं, पाकिस्तान की तरफ से पुल बनाने के काम पर अभी हामी भी नहीं भरी गई है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment