1. You Are At:
  2. होम
  3. खेल
  4. अन्य खेल
  5. El clasico 2018 Review: रोनाल्डो, मेसी के बिना भारत में चमक खो बैठेगा एल क्लासिको?

El clasico 2018 Review: रोनाल्डो, मेसी के बिना भारत में चमक खो बैठेगा एल क्लासिको?

रोनाल्डो नौ वर्षो तक मेड्रिड में बिताने के बाद 2018-19 सीजन की शुरुआत से पहले ही इटली के शीर्ष क्लब जुवेंतस में शामिल हुए जबकि मेसी पिछले लीग मैच में सेविला के खिलाफ चोटिल होने के कारण रविवार को अपनी टीम का हिस्सा नहीं होंगे।

Reported by: IANS [Updated:27 Oct 2018, 5:14 PM IST]
El clasico 2018 Review- India TV
Image Source : GETTY IMAGES El clasico 2018 Review

नई दिल्ली। पेशेवर फुटबाल जगत में वर्ष 2007 के बाद पहली बार ऐसा क्षण आया है, जब दुनिया के दो महान खिलाड़ी-क्रिस्टियानो रोनाल्डो और लियोनेल मेसी स्पेनिश लीग में चिर-प्रतिद्वंद्वी रियल मेड्रिड और एफसी बार्सिलोना के बीच होने वाले मुकाबले में नहीं खेलेंगे। इन दोनों क्लबों के बीच होने वाले मुकाबलों को एल क्लासिको कहा जाता है। 

रोनाल्डो नौ वर्षो तक मेड्रिड में बिताने के बाद 2018-19 सीजन की शुरुआत से पहले ही इटली के शीर्ष क्लब जुवेंतस में शामिल हुए जबकि मेसी पिछले लीग मैच में सेविला के खिलाफ चोटिल होने के कारण रविवार को अपनी टीम का हिस्सा नहीं होंगे। 

पिछले 10 वर्षो में रोनाल्डो और मेसी ने अपने खेल से दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। इन दोनों खिलाड़ियों ने अपने क्लब को विश्व में सर्वश्रेष्ठ टीम होने का गौरव दिलाया है। फुटबाल एक टीम गेम है लेकिन समय-समय पर ऐसे खिलाड़ी उभरे हैं, जो प्रशंसकों की नजरों में किसी भी टीम से बढ़कर रहे हैं। 

भारत की राष्ट्रीय फुटबाल टीम विश्व स्तरीय नहीं है और देश में क्लब फुटबाल भी अभी अपने शुरुआती चरण में है, ऐसे में यहां फुटबाल प्रशंसकों के बीच रोनाल्डो और मेसी भगवान का दर्जा रखते हैं। इन दोनों खिलाड़ियों को भारत में उतना ही पसंद किया जाता है, जितना एक समय अर्जेटीना के करिश्माई फारवर्ड डिएगा माराडोना को किया जाता था। 

रोनाल्डो-मेसी की वजह से भारत में स्पेनिश लीग भी प्रचलित हुई। भारत में इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) के अधिक दर्शक हैं लेकिन पिछले 10 वर्षो में इन दोनों खिलाड़ियों की वजह से देश में स्पेनिश लीग को भी एक अलग पहचान मिली है। 

इनके आलावा, स्पेनिश कोच पेप गार्डियोला द्वारा ईजाद की गई टिकी-टाका (शॉर्ट पासेज का प्लेइंग स्टाइल) ने जहां एक तरफ बार्सिलोना को सफलता के शिखर पर पहुंचाया, वहीं दूसरी ओर भारत में भी प्रशंसकों को स्पेनिश फुटबाल का मुरीद बना दिया। रोनाल्डो-मेसी भले ही भारत में फुटबाल का केंद्र रहे हों लेकिन स्पेनिश फुटबाल ने भी देश में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। 

लीग के प्रचलित होने के कारण भारतीय प्रशंसकों ने रोनाल्डो-मेसी जैसे दिग्गजों के अलावा आंद्रेस इनिएस्ता, गैरेथ बेल, लुइस सुआरेज और सर्जियो रामोस जैसे खिलाड़ियों के भी पंसद किया है। रियल मेड्रिड के लिए खेल चुके इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी स्टीव मैकमैनामन का भी मानना है कि रियल और बार्सिलोना के बीच होने वाला मुकाबला रोनाल्डो और मेसी से बढ़कर है। 

स्टीव मैकमैनामन ने कहा, "यह मैच केवल रोनाल्डो और मेसी के बारे में नहीं है। यह मुकाबला आंद्रेस इनिएस्ता के गोल के बारे में है। यह मुकाबला गैरेथ बेल के बाइसाइकिल किक के बारे में है। कई टीमें हैं, जो इन दो टीमों जैसा बनना चाहती हैं और यह मैच दुनिया का सबसे बड़ा मैच है।"

इस बार यह मुकाबला इसलिए भी खास है क्योंकि लीग में दोनों ही टीमों को शुरुआत से कड़ी टक्कर मिली है। बार्सिलोना की टीम 18 अंकों के साथ गोल अंतर के आधार पर शीर्ष पर बनी हुई है जबकि नए कोच जुलेन लोप्तेगुई के मार्गदर्शन में रियल सातवें स्थान पर काबिज है। रियल के कुल 14 अंक हैं और उसे तीन मुकाबलों में हार झेलनी पड़ी है जबकि दो मैच ड्रॉ रहे हैं। 

मौजूदा यूरोपीय चैम्पियन रियल का प्रदर्शन सीजन की शुरुआत से ही खराब रहा है। रियल को एक ऐसे खिलाड़ी की कमी जरूर खली है, जिसने क्लब के लिए कुल 450 गोल दागे और 15 ट्रॉफी जीते। 

रियल विपक्षी टीम के 18 गज के बॉक्स तक तो गेंद पहुंचाने में कामयाब हो रही है लेकिन उसे गोल में बदलने में टीम को कुछ खास सफलता नहीं मिली है। हालांकि, चेक गणराज्य के क्लब विक्टोरिया प्लजेन के खिलाफ पिछले मुकाबले में मिली जीत के बाद रियल का मनोबल बढ़ा होगा। साथ ही बेल के फिट होने के कारण टीम गोल के सामने अधिक खतरनाक साबित होगी। 

डिफेंडर मार्सेलो पर भी डिफेंस के साथ काउंटर अटैक पर आक्रामक खेल दिखाने का दबाव होगा। बाएं फ्लैंक से वह बार्सिलोना को उसके घर पर परेशान कर सकते हैं। रामोस और राफेल वरान भी पिछले कुछ मैचों में की गई अपनी गलतियों को दोहराना नहीं चाहेंगे। 

दूसरी ओर, एल क्लिासिको में सबसे अधिक 26 गोल करने वाले मेसी की गैरमौजूदगी के बावजूद बार्सिलोना का प्रदर्शन पिछले मैच में शानदार रहा। बार्सिलोना ने चैम्पियंस लीग के ग्रुप स्तर के मुकाबले में इटली के क्लब इंटर मिलान को 2-0 से मात दी। मुख्य कोच एर्नेस्टो वेल्वेर्दे ने दाएं विंग पर खेलने वाले मेसी की जगह राफीना अल्कांत्रा को मौका दिया, जिन्होंने गोल करके कोच के निर्णय को सही साबित किया। 

राफीना के अलावा वेल्वेर्दे उस्मान डेंबेले या मैल्कम को भी मौका दे सकते हैं। बार्सिलोना में मेसी के अलावा फिलिप कोटिन्हो, सर्जियो बुस्क्वेट्स और मार्क-आंद्रे टेर स्टेगन जैसे शीर्ष स्तरीय खिलाड़ी भी हैं जो इस टीम को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम बनाती है और रियल के मौजूदा फॉर्म को देखते हुए बार्सिलोना का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। 

सभी प्रतियोगिताओं में रियल और बार्सिलोना के बीच यह 238वां मुकाबला होगा। रियल ने अब तक 95 जबकि बार्सिलोना ने 93 मुकाबलों में जीत दर्ज की है। भारत में इस मैच का प्रसारण सोनी नेटवर्क्‍स के विभिन्न चैनलों पर होता है। यह मैच रविवार को भारतीय समयानुसार रात 8.45 से खेला जाएगा।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Other Sports News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन
Web Title: El clasico 2018 Review: Without Cristiano Ronaldo and lionel Messi, El Classico will lose the glow in India?
Write a comment

लाइव स्कोरकार्ड