1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. खेल
  4. क्रिकेट
  5. नहीं पता वेस्टइंडीज के खिलाफ बाकी मैचों के लिए क्यों नहीं चुना गया: केदार जाधव

नहीं पता वेस्टइंडीज के खिलाफ बाकी मैचों के लिए क्यों नहीं चुना गया: केदार जाधव

देवधर ट्राफी के बीच में जाधव को भारत ए टीम में जगह दी गई क्योंकि चयनकर्ता उनकी वापसी पर फैसला करने से पहले उनकी फिटनेस परखना चाहते थे।

Bhasha Bhasha
Updated on: October 25, 2018 21:02 IST
केदार जाधव- India TV
Image Source : AP केदार जाधव

एक बार फिर फिट हो चुके केदार जाधव ने बृहस्पतिवार को कहा कि वेस्टइंडीज के खिलाफ बाकी बचे तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए भारतीय टीम में नहीं चुने जाने के बारे में उन्हें जानकारी नहीं दी गयी जिसके बाद मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद को कहना पड़ा कि इस बल्लेबाज को चोटिल होने के उनके पुराने इतिहास के कारण टीम में नहीं चुना गया। देवधर ट्राफी के बीच में जाधव को भारत ए टीम में जगह दी गई क्योंकि चयनकर्ता उनकी वापसी पर फैसला करने से पहले उनकी फिटनेस परखना चाहते थे। 

तीन राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की मौजूदगी में जाधव ने 25 गेंद में नाबाद 41 रन की पारी खेली और पांच ओवर भी फेंकते हुए अपना दावा पेश किया लेकिन देवधर ट्राफी मैच के दौरान घोषित हुई टीम में महाराष्ट्र के इस खिलाड़ी को जगह नहीं दी गई। जाधव से जब यह पूछा गया कि वेस्टइंडीज के खिलाफ बाकी बचे तीन मैचों में उनके चयन को लेकर किसी तरह की जानकारी दी गई तो उन्होंने कहा, ‘‘मुझे इसकी जानकारी नहीं है।’’ 

पुणे के इस 33 साल के खिलाड़ी ने कहा, ‘‘देखते हैं क्या होता है। मुझे यह बताने वाले आप पहले व्यक्ति हैं। मुझे यह देखने कि जरूरत है कि उन्होंने मुझे क्यों नहीं चुना। मैं टीम में नहीं था इसलिए मुझे नहीं पता कि क्या योजना है। संभवत: मैं रणजी ट्राफी में खेलूंगा।’’ 

प्रसाद ने चयनकर्ताओं का बचाव करते हुए कहा कि जाधव को वापसी के लिये अधिक घरेलू मैचों में खेलना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमने केदार को फिटनेस के उनके इतिहास को देखते हुए नहीं चुना। इससे पहले भी कुछ अवसरों पर उन्होंने फिट होकर वापसी की लेकिन फिर चोटिल हो गये जैसे कि पिछले महीने एशिया कप में हुआ।’’ 

प्रसाद ने कहा, ‘‘असल में हम सोच रहे थे कि अगर भारत ए आज जीत दर्ज करने में सफल रहता है तो केदार को एक अन्य मैच खेलने के लिये मिल जाएगा जिससे हमें उनकी मैच फिटनेस का सही आकलन करने का मौका मिल जाता। हम उन्हें चौथे वनडे से पहले (भारतीय टीम में) एक अतिरिक्त खिलाड़ी के रूप में शामिल कर सकते थे। खिलाड़ियों को समझना चाहिए कि टीम का चयन करते समय हम एक प्रक्रिया का अनुसरण करते हैं।’’ 

खिलाड़ियों के साथ संवादहीनता के लिए चयनकर्ताओं को पिछले कुछ समय में आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है और जाधव के मामले ने एक बार फिर इस बहस को छेड़ दिया है। करूण नायर और मुरली विजय ने कहा था कि टेस्ट टीम से बाहर किए जाने से पहले चयनकर्ताओं ने उनसे बात नहीं की। इस दावे को हालांकि मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने खारिज किया था। 

जाधव ने पिछले महीने एशिया कप के दौरान टीम में वापसी की थी लेकिन फाइनल में मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या फिर उभरने के कारण उन्हें दोबारा रिहैबिलिटेशन से गुजरना पड़ा। जाधव ने कहा कि जब आप अच्छा खेल रहे होते हैं और चोटिल हो जाते हैं तो इससे पीड़ा पहुंचती है। 

उन्होंने कहा, ‘‘रिहैबिलिटेशन अच्छा था। मैं सभी टेस्ट पास करने के बाद यहां मैच फिट होकर आया था। सब कुछ ठीक है। बेशक जब आप फार्म में हों और चोटिल हो जाएं तो पीड़ा पहुंचती है। इससे अनिश्चितता पैदा होती है कि आपको अगला मौका कब मिलेगा। जब आप वापसी करते हैं तो आपको शून्य से शुरुआत करनी होती है क्योंकि आप काफी मैचों में खेलने से चूक चुके होते हैं। इससे पीड़ा पहुंचती है लेकिन आपको इसे स्वीकार करके आगे बढ़ना होता है।’’

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन
Write a comment

लाइव स्कोरकार्ड