1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. मेरा पैसा
  5. अपनी लाइफस्‍टाइल बरकरार रखने के हिसाब से बनाएं रिटायरमेंट प्‍लान, बाद में नहीं करना होगा समझौता

अपनी लाइफस्‍टाइल बरकरार रखने के हिसाब से बनाएं रिटायरमेंट प्‍लान, बाद में नहीं करना होगा समझौता

रिटायरमेंट प्‍लान के बारे में कहा जाता है कि शुरुआत ‘जितना जल्दी हो, उतना ही बेहतर होता है’, लेकिन इसकी शुरूआत कभी भी की जा सकती है।

Manish Mishra Manish Mishra
Updated on: October 26, 2016 11:42 IST
अपनी लाइफस्‍टाइल बरकरार रखने के हिसाब से बनाएं रिटायरमेंट प्‍लान, बाद में नहीं करना होगा समझौता- India TV Paisa
अपनी लाइफस्‍टाइल बरकरार रखने के हिसाब से बनाएं रिटायरमेंट प्‍लान, बाद में नहीं करना होगा समझौता

नई दिल्‍ली। रिटायरमेंट प्‍लान के बारे में कहा जाता है कि शुरुआत ‘जितना जल्दी हो, उतना ही बेहतर होता है’, लेकिन इसकी शुरूआत कभी भी की जा सकती है। जल्दी शुरू करके आप लांग टर्म का ज्‍यादा लाभ उठा सकते हैं। आपको अपने इन्‍वेस्‍टमेंट पर  कंपाउंडिंग का लाभ मिलेगा। इसकी बदौलत आप अच्छा खासा धन इकट्ठा कर सकते हैं। यह धन उस समय मददगार होगा जब आप रिटायर हो जाते हैं और सैलरी आनी बंद हो जाती है।

अनुशासित तरीके से करें निवेश

  • यदि आप रिटायरमेंट के लिए पैसे जोड़ने की शुरुआत देर से करते हैं तो निवेश की जाने वाली राशि बढ़ जाती है, लेकिन जो बात गौर करने वाली है वह है निवेश की निरंतरता।
  • लगातार अनुशासित निवेश के माध्यम से ही आप एक अपेक्षित फंड बना सकते हैं जो आपकी रिटायरमेंट के बाद आसानी से जीवन व्यतीत करने में सहायता करेगा।

सेवानिवृत्ति की योजना तीन साधारण चरणों में की जा सकती है:

चरण 1: सेवानिवृत्ति के बाद के खर्चे का आकलन करें

अपने वर्तमान खर्चों और अन्य पहलुओं को ध्यान में रखें जैसे महंगाई, बढ़ता हुआ मेडिकल खर्च, छुट्टियां,  परिवार के लिए उपहार आदि। इससे आपको उस राशि के बारे में पता चल सकेगा जो आपको सेवानिवृत्ति के बाद आराम से जीने के लिए चाहिए। आपको यह ध्यान रखने की आवश्यकता है कि महंगाई के कारण आपको अपने खर्च की राशि बढ़ानी होगी। (यदि आ  साथ-साथ खर्च कर रहे हैं)। यदि आपके पास स्वयं का घर है तो आप बच्चों की शिक्षा और किराए की लागत को बचा सकते हैं।

चरण 2 : कितने पैसे बचाने चाहिए

जब आपको अपने खर्चों के बारे में पता लग जाता है तो आपको उसी के अनुसार धन संचित करने की आवश्यकता है, जिससे आप अपने खर्चों को पूरा कर सकते हैं। यह बचत महंगाई को ध्यान में रखते हुए की जानी चाहिए।

चरण 3 : कितनी बचत करने की आवश्यकता है

  • अपने फाइनेंशियल कंडीशन को देखते हुए रिटायरमेंट प्‍लानिंग के लिए निवेश की जाने वाली राशि निर्धारित कीजिए।
  • अभी से बचत करना शुरू कीजिए ताकि आपके  पास पर्याप्त समय रहे और कंपाउंडिंग के जादू का लाभ उठा सकें।
  • यदि एक 35 वर्ष का व्यक्ति रिटायरमेंट के बाद 50,000 रुपए हर महीने पाना चाहता है तो उसे अभी से योजना बनाने की आवश्यकता है।
  • इसके लिए 75,00,000 रुपए के फंड की आवश्यकता होगी। इसके लिए उसे 10,000 रुपए प्रतिमाह का इंवेस्‍टमेंट करना चाहिए।

कैसे चुना जाए रिटायरमेंट प्‍लान

रिटायरमेंट प्‍लान की बाजार में कमी नहीं है। इंश्‍योरेंस, म्‍यूचुअल फंडों के विभिन्‍न प्‍लान्‍स के अलावा पब्लिक प्रोविडेंट, एनपीएस जैसे विकल्‍प भी उपलब्‍ध हैं। इनकी विशेषताओं और एक्‍सपेंस स्‍ट्रक्‍चर का अध्ययन करना महत्वपूर्ण है। कम खर्च वाली  योजना का चुनाव करके आप इंवेस्‍टमेंट पर ज्‍यादा लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

अच्‍छे रिटायरमेंट प्‍लान की खासियत

  • महंगाई से अधिक रिटर्न उपलब्‍ध कराता है।
  • आपकी जोखिम उठाने की क्षमता के अनुसार, आपको निवेश के लिए उचित रणनीति अपनाने के लिए फ्लेक्सिबिलिटी उपलब्‍ध कराता है।
  • बाजार की अस्थिरताओं से आपकी पूंजी को बचाता है।
  • एक निरंतर बचत की आदत का विकास करता है।
Write a comment