1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. मेरा पैसा
  5. अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री में आई 4 प्रतिशत कमी, 3 महीने में बिके 53,352 नए घर

अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री में आई 4 प्रतिशत कमी, 3 महीने में बिके 53,352 नए घर

संपत्ति बाजार में सुस्ती के बीच देश के नौ बड़े शहरों में अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री पिछले साल की तुलना में चार फीसद घटकर 53,352 इकाई रही।

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Updated on: July 27, 2017 20:00 IST
अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री में आई 4 प्रतिशत कमी, 3 महीने में बिके 53,352 नए घर- India TV Paisa
अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री में आई 4 प्रतिशत कमी, 3 महीने में बिके 53,352 नए घर

नई दिल्ली। संपत्ति बाजार में सुस्ती के बीच देश के नौ बड़े शहरों में अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री पिछले साल की तुलना में चार फीसद घटकर 53,352 इकाई रही। प्रोप टाइगर डॉट कॉम के अनुसार वैसे इससे पिछली तिमाही की तुलना में बिक्री में तीन प्रतिशत का सुधार दिखा है, जो इस बात का संकेत माना जा रहा है कि बाजार नोटबंदी के दुष्प्रभाव से उबर रहा है।

प्रोप टाइगर डॉट कॉम नौ बड़े शहरों मुंबई, पुणे, नोएडा, गुड़गांव, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता और अहमदाबाद में संपत्ति बाजार के अध्ययन पर इस निष्कर्ष पर पहुंचा है। प्रोप टाइगर डॉट कॉम एलारा टेक्नोलॉजीज का हिस्सा है। हाउसिंग डॉट कॉम और मकान डॉट कॉम भी एलारा टेक्नोलॉजीज के अंतर्गत आते हैं।

प्रोप टाइगर डॉट कॉम ने कहा कि वित्‍त वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही में नौ शहरों में 53,352 मकान बिके। इस क्षेत्र में आवासीय बिक्री की रफ्तार पिछली तिमाही की तुलना में तीन प्रतिशत वृद्धि के साथ बनी हुई है। उसने कहा, नोटबंदी, रेरा और जीएसटी जैसे कई विभिन्न नीतिगत बदलावों के बावजूद वित्‍त वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही में बिक्री सालभर पहले की इसी तिमाही की तुलना में चार फीसद घटकर 55,500 इकाई रही।

गुरुग्राम में अप्रैल-जून, 2018 में मकानों की बिक्री आंशिक रूप से घटकर 2,802 इकाई रही। पिछले साल की इसी तिमाही में गुरुग्राम में 2,908 मकान बिके थे। नोएडा में इस वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही में 3,565 आवासों की बिक्री हुई, जो पिछले साल की इसी तिमाही में बिके 5,202 मकानों से काफी कम है। इस पोर्टल के अनुसार मकानों के दाम महज एक फीसद की आंशिक वृद्धि के साथ स्थिर रहे। हैदराबाद और बेंगलुरु को छोड़कर सभी शहरों में पिछले तीन सालों से दामों में स्थिरता बनी हुई है।

Write a comment
bigg-boss-13