1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. खुल गया पेट्रोलपंप पर पेट्रोल और डीजल की चोरी का बड़ा राज, ये हैं बचने के तरीका

खुल गया पेट्रोलपंप पर पेट्रोल और डीजल की चोरी का बड़ा राज, ये हैं बचने के तरीका

पेट्रोल पंप वाले अक्सर इन 7 तरीकों का इस्तेमाल कर आपको ऐसे धोखा देतें है। अगर आप कुछ चुनिंदा बातों का ख्या रखेंगे तो हमेशा पूरा पेट्रोल ले पाएंगे।

Ankit Tyagi Ankit Tyagi
Updated on: April 28, 2017 11:28 IST
खुल गया पेट्रोल पंप पर पेट्रोल और डीजल की चोरी का बड़ा राज, ये हैं बचने के तरीका- India TV Paisa
खुल गया पेट्रोल पंप पर पेट्रोल और डीजल की चोरी का बड़ा राज, ये हैं बचने के तरीका

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के सात पेट्रोल पंप में चिप और रिमोट कंट्रोल के जरिए पेट्रोल और डीजल की चोरी का खेल चल रहा था। एसटीएफ ने गुरुवार को जिला प्रशासन, आपूर्ति विभाग, तेल कंपनियों के प्रतिनिधियों और बांट माप तौल विभाग की टीमों के साथ मिलकर इन पेट्रोल पंपों पर छापे मारकर इसका खुलासा किया है। सभी पेट्रोल पंपों की मशीनों में तेल चुराने के लिए लगाई गई चिप और इनके रिमोट बरामद हुए हैं।

ऐसे होती थी पेट्रोलपंप पर चोरी

पेट्रोल पंप में इस खेल में अमूमन दो से तीन लोग शामिल रहते थे। इसमें एक पेट्रोल डालता था और दूसरा कैश का बैग लेकर खड़ा रहता था। बैग लेकर खड़े रहना वाला पैसों के साथ ही रिमोट रखता था। मौका मिलते ही वह रिमोट दबा देता था। कुछ जगह पर इन दोनों के अलावा तीसरा कर्मचारी जेब में रिमोट लेकर खड़ा रहता था। एसएसपी एसटीएफ ने बताया कि ये लोग ग्रीन सर्किट में चिप लगाकर खेल करते थे। कुछ जगह एमसीबी और कुछ जगह पैनल में सर्किट लगाया गया था। यह भी पढ़े: सरकार ने रविवार को पेट्रोल पंप बंद रखने के फैसले पर जताई आपत्ति, कहा- पीएम मोदी की अपील से कोई लेना देना नहीं

मिलता था 50-60 मिलीलीटर कम फ्यूल

पेट्रोलपंप वाले चोरी से कमाते थे 12-15 लाख रुपए

एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक के मुताबिक, इस डिवाइस के जरिए पेट्रोलपंप मालिक हर लीटर पर पांच से छह प्रतिशत ईंधन की चपत लगा रहे थे। औसतन एक पेट्रोल पंप इस चोरी से ही रोज 40 से 50 हजार रुपये और महीने में 12 से 15 लाख रुपये कमा रहा था।

पेट्रोल पंप वाले इन 7 तरीकों से ऐसे देते हैं आपको धोखा, हमेशा रखें इन बातों का ख्याल

(1) हमेशा रिजर्व से पहले भरवाएं पेट्रोल

बहुत कम लोगों को पता है कि खाली टैंक में पेट्रोल भरवाने से नुकसान होता है। इसका कारण है कि जितना खाली आपका टैंक होगा,  उतनी ही हवा टैंक में मौजूद रहेगी। ऐसे में आप पेट्रोल भरवाते हैं,  तो हवा के कारण पेट्रोल की मात्रा कम मिलेगी। इसलिए कम से कम टैंक के रिजर्व तक आने का इंतजार नहीं करें। आधा टैंक हमेशा भरा  रखें।

(2) डिजिटल मीटर वाले पेट्रोल पंप पर ही जाएं 

पेट्रोल हमेशा डिजिटल मीटर वाले पंप पर ही भरवाएं। दरअसल पुरानी पेट्रोल पंप मशीनों पर कम पेट्रोल भरे जाने की संभावना ज्‍यादा रहती है और आप इसे पकड़ भी नहीं सकते हैं। यही कारण है कि देश में लगातार पुरानी पेट्रोल पंप मशीनें को हटाया हटाई जा रहीं हैं। और डीजीटल मीटर वाले पम्प इंस्टाल किए जा रहे हैं। आपभी ध्यान रखें।

(3) रूक-रूक कर चल रहा मीटर 

अक्सर आपने देखा होगा कि पेट्रोल भरने के समय मीटर बार-बार रुक जाता है। हालांकि धीरे धीरे करके इसी तरह आपको पेट्रोल दे दिया जाता है। जानकारों के मुताबिक, बार बार रुकने से आपको पेट्रोल का नुकसान होता है। इसलिए अगर किसी पेट्रोल पंप पर ऐसी मशीन है तो इस मशीन पर पेट्रोल भरवाने से बचें।

(4) मीटर से नजर नहीं हटाएं

अधिकांश लोग जब अपनी कार में पेट्रोल/डीजल भरवाते हैं तो गाड़ी से नीचे नहीं उतरते हैं। इसका फायदा उठाते हैं पेट्रोलपम्पकर्मी। पेट्रोल भरवाते समय कार से उतरें और मीटर के पास खड़े हों और सेल्सकर्मी की सारी गतिविधियों को देखें। इससे आपके साथ चीटिंग होने के मौके बेहद कम हो जाते हैं।

(5) हमेशा जीरो देखकर की पेट्रोल डलवाएं

हो सकता है आपको बातों में लगाकर पेट्रोल पंपकर्मी  जीरो तो दिखाए, लेकिन मीटर में आपके  द्वारा मांगा गया पेट्रोल का मूल्य नहीं सेट  करे। आजकल सभी पेट्रोल पंप पर डीजिटल  मीटर होते हैं। इनमें आपकी ओर से मांगा गया पेट्रोल फीगर और मूल्य पहले ही भरा जाता है। इससे पेट्रोलपम्प कर्मी की मनमानी और चीटिंग करने की गुजांइश बेहद कम हो जाती है।

(6) रीडिंग हो इससे स्टार्ट

पेट्रोल पंप  मशीन में जीरो फिगर तो आपने देख लिया,  लेकिन रीडिंग स्टार्ट किस फीगर से हुई।  सीधे 10, 15 या 20 से। मीटर की रीडिंग कम से कम 3 से स्टार्ट  हो। अगर 3 से ज्यादा अंक पर जंप हुआ तो समझो आपका नुकसान भी उतना ही होगा।

(7) अगर मीटर चल रहा हैं तेज

आपने पेट्रोल आर्डर किया और मीटर बेहद तेज चल रहा है, तो समझिए कुछ गड़बड़ है। पेट्रोलपंपकर्मी को मीटर की स्पीड नार्मल करने को कहें। हो सकता है तेज मीटर चलने से आपकी जेब कट रही हो।

Write a comment