1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. कमाल की स्कीम: केवल 10 रुपए में यहां खुलवाएं अकाउंट, बचत खाते से ज्यादा मिलेगा ब्याज

कमाल की स्कीम: केवल 10 रुपए में यहां खुलवाएं अकाउंट, बचत खाते से ज्यादा मिलेगा ब्याज

पोस्ट ऑफिस में इन्वेस्टमेंट स्कीम को फायदेमंद इसलिए माना जाता है, क्योंकि पोस्ट ऑफिस में इन्वेस्ट किए हुए पैसे की सुरक्षा की गारंटी सरकार लेती है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: May 26, 2019 14:47 IST
Post Office Schemes- India TV Paisa
Photo:SELF

Post Office Schemes

नई दिल्ली। क्या आप जानते हैं कि बैंकों के साथ ही पोस्ट ऑफिस में भी रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट खोला जा सकता है। पोस्ट ऑफिस में इन्वेस्टमेंट स्कीम को फायदेमंद इसलिए माना जाता है, क्योंकि पोस्ट ऑफिस में इन्वेस्ट किए हुए पैसे की सुरक्षा की गारंटी सरकार लेती है।  इस स्कीम का कम सैलरी वालों के साथ-साथ ज्यादा इनकम वालों भी मिल सकता है। इस स्कीम की खास बात यह है कि आप सिर्फ 10 रुपए से भी निवेश शुरू कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस में अकाउंट खुलवाकर आप अपनी बचत पर ज्यादा ब्याज (मुनाफा) पा सकते है। अगर आप  छोटी रकम से निवेश की शुरुआत करना चाहते हैं तो पोस्ट ऑफिस के रेकरिंग डिपॉजिट को चुन सकते हैं। अगर आप भी अपने या अपने बच्चों के नाम पर फिक्स्ड इनकम वाले रिटर्न में निवेश करना चाहते हैं मामूली रकम से Post Office Recurring Deposit Account खुलवा सकते हैं। 

बहुत से लोग ऐसे हैं, जिनकी मंथली सेविंग्स अगर कम होती है तो वे उसे बैंक की सेविंग अकाउंट में रखकर यह सोचते हैं कि उनकी बचत बढ़ रही है। लेकिन बचत खाते में रखे पैसे पर अमूमन घाटा ही होता है। ज्यादातर बैंक सेविंग अकाउंट पर 3.5 से 4 फीसदी तक ही ब्याज देते हैं, जो महंगाई दर के मुकाबले कम होता है। वहीं, दूसरा रास्ता बैंक एफडी है, जहां ब्याज तो ज्यादा है, लेकिन पैसा लंबे समय के लिए लॉक हो जाता है। ऐसे में सेविंग अकाउंट से दोगुना रिटर्न पाने के लिए पोस्ट ऑफिस की स्माल सेविंग स्कीम रेकरिंग डिपॉजिट यानी आरडी बेहतर विकल्प है। पोस्ट ऑफिस की 1 साल से 5 साल की आरडी स्कीम पर 6.9 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है।

बचत खाते से यहां मिल रहा है ज्यादा रिटर्न 

पोस्ट ऑफिस के रेकरिंग डिपॉजिट अकाउंट में इस वक्त 7.3% का सालाना ब्याज मिल रहा है। इस समय ज्यादातर बैंक एसबीआई, देना बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, इलाहाबाद बैंक जैसे बैंक 1 से 5 साल तक की RD पर 6.5 से 7% तक ब्याज दे रहे हैं।

10 रुपए से खुलता है रेकरिंग अकाउंट 

पोस्ट ऑफिस की आरडी का अकाउंट 10 रुपए से खुल जाता है। इस रेकरिंग अकाउंट में हर महीने आप 10 रुपए और ज्यादा से ज्यादा कितनी भी रकम जमा कर सकते हैं। जैसे आप बचत के लिए गुल्लक का इस्तेमाल करते हैं उसी तरह PORDA का इस्तेमाल कर सकते हैं।

बहुत फायदेमंद है पोस्ट ऑफिस की यह स्कीम 

आप अगर अपने मासिक खर्च से रकम बचाकर Post Office Recurring Deposit Account में 100 रुपए रोज का निवेश करते हैं तो आपका मासिक निवेश 3000 रुपए हो जाएगा। इस हिसाब से आप पांच साल में PORDA में 1.80 लाख रुपए का निवेश करते हैं। आपको 5 साल बाद ब्याज के साथ कुल 2.20 लाख रुपए मिल जाएंगे। PORDA में 5 साल में कुल जमा पर आपको 37,511 रुपए का ब्याज मिलेगा।

ऑनलाइन कर सकते हैं निवेश

डाकघर ने PORDA में निवेश की सुविधा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) के जरिए दी है। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए ग्राहकों को डाकघर में एक बार जाकर आरडी खाते से आईपीपीबी से लिंक करना होगा। इसके बाद आईपीपीबी खाते से ऑनलाइन या आईपीपीबी एप से आरडी की मासिक किस्त (EMI) का भुगतान किया जा सकता है।

एक बार PORDA खाता खोलने के बाद आप EMI का भुगतान इस तरह कर सकते हैं

  • सबसे पहले अपने बैंक खाते से आईपीपीबी खाते में पैसे डालें 
  • इसके बाद डीओपी उत्पादों पर जाएं, वहां से आवर्ती जमा चुनें 
  • अपना आरडी खाता संख्या और डीओपी ग्राहक आईडी भरें 
  • इसके बाद किस्त की अवधि और राशि चुनें 
  • राशि जमा होने पर आईपीपीबी मोबाइल एप आपको यह कन्फर्म कर देगा

आरडी के फायदे

  • रेकरिंग डिपॉजिट निवेशक की सेविंग पर निर्भर करता है और हर महीने एक तय राशि का निवेश इसमें कर सकते हैं।
  • आरडी के लॉक इन फीचर के तहत शुरुआत से आखिर तक ब्याज दर एक समान रहती है और डिपॉजिट पर इंटरेस्ट रेट शुरुआत में ही लॉक इन हो जाता है, यानी ब्याज दर कम होने पर आरडी में फायदा होता है।
  • रेकरिंग डिपॉजिट से सेविंग मैनेजमेंट आसान होता है और बार बार फिक्स डिपॉजिट की परेशानी से राहत मिल जाती है।
  • आरडी में अकाउंट खोलते समय ही टाइम पररियड तय हो जाता है। टाइम पीरियड खत्म होने पर आपको ब्याज समेत पूरा भुगतान मिल जाता है।
  • आरडी की खासियत है कि इसमें नियमित निवेश के साथ फिक्स डिपॉजिट के फायदे मिलते हैं। ब्याज तय होने से आय की निश्चितता रहती है और बैंकों की ओर से ऑफर मिलने से सहूलियत रहती है। आरडी में एक खास लक्ष्य के लिए रकम इकट्ठा की जा सकती है।
  • आरडी 10 साल तक हो सकती है, इसमें लंबे समय का इनवेस्टमेंट प्लान बनाया जा सकता है।
Write a comment
bigg-boss-13