1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. IRCTC से आधार लिंक करना हुआ फायदेमंद, मिल सकती है फ्री टिकट और 10,000 रुपए नकद

IRCTC से आधार लिंक करना हुआ फायदेमंद, मिल सकती है फ्री टिकट और 10,000 रुपए नकद

आधार से अपने खाते को लिंक करना हो सकता है आपके लिए परेशानी का सबब हो, लेकिन यदि आप IRCTC से अपना आधार नंबर लिंक करते हैं तो आपके लिए यह बहुत ही फायदेमंद होगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: January 03, 2018 19:29 IST
aadhaar- India TV Paisa
aadhaar

नई दिल्‍ली। आधार से अपने खाते को लिंक करना हो सकता है आपके लिए परेशानी का सबब हो, लेकिन यदि आप आईआरसीटीसी से अपना आधार नंबर लिंक करते हैं तो आपके लिए यह बहुत ही फायदेमंद होगा। आईआरसीटीसी ने एक खास ऑफर पेश किया है। इसके तहत अपना आधार नंबर लिंक करवाने पर आपको 10 हजार रुपए कैश और फ्री में टिकट मिल सकती है। अन्‍य फायदों की बात करें तो आईआरसीटीसी अकाउंट से आधार लिंक करने पर एक महीने में 12 टिकट बुक कर सकते हैं। जबकि बिना लिंक किए एक महीने में 6 टिकट ही बुक किए जा सकते हैं।

आपको बता दें कि आपको इसके लिए किसी रेल काउंटर पर नहीं जाना है, बल्कि आप अपने मोबाइल या कंप्‍यूटर से आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर अपना आधार नंबर को ओटीपी के जरिए लिंक करवाना है। जब आप आधार को लिंक कर लेंगे, तो अगले 6 महीने तक जब भी आप टिकट बुक करेंगे, तो आप इस स्कीम में शामिल हो जाएंगे। रेलवे हर महीने 5 लोगों को इस लकी ड्रॉ का फायदा देगी।

इस लकी ड्रॉ में जीतने वालों को न सिर्फ 10,000 रुपए इनाम दिया जाएगा, बल्कि उन्होंने टिकट बुक करने पर जो खर्च किया है, वह पूरा पैसा भी लौटाया जाएगा। हालांकि इसके लिए जरूरी है कि IRCTC प्रोफाइल में आपका जो नाम है, टिकट पर भी वही नाम होना चाहिए। स्‍कीम के अनुसार भारतीय रेलवे के मुताबिक जैसे ही आप आधार लिंक करने के बाद आईआरसीटीसी अकाउंट से टिकट बुक करेंगे, तो आपका पीएनआर नंबर इस स्कीम में शामिल हो जाएगा। इसके बाद कंप्यूटर की मदद से हर महीने 5 लकी विजेता चुने जाएंगे। जिस महीने आप टिकट बुक करेंगे, उसके अगले महीने के पहले हफ्ते में आपको पता चल जाएगा कि आप जीते हैं या नहीं। इस स्कीम में जीतने वालों की जानकारी न सिर्फ आईआरसीटीसी साइट पर डालेगा, बल्कि जीतने वालों की रजिस्टर्ड ईमेल आईडी पर भी भेजेगा।

Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban