1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. करेंसी की गिरफ्त में शेयर बाजार, IT कंपनियों में सबसे ज्यादा तेजी और तेल कंपनियों में सबसे ज्यादा गिरावट

करेंसी की गिरफ्त में शेयर बाजार, IT कंपनियों में सबसे ज्यादा तेजी और तेल कंपनियों में सबसे ज्यादा गिरावट

शेयर बाजार आज पूरी तरह से करेंसी की गिरफ्त में है, रुपया 5 महीने के निचले स्तर पर है जिस वजह से सबसे ज्यादा तेजी आईटी कंपनियों में है और इसी वजह से सबसे ज्यादा गिरावट तेल कंपनियों के शेयरों में है

Reported by: Manoj Kumar [Updated:12 Apr 2018, 12:10 PM IST]
Sensex crosses 34k - India TV Paisa

Sensex crosses 34k mark but Nifty trading in red zone

नई दिल्ली। भारतीय शेयर बाजार आज पूरी तरह से भारतीय करेंसी रुपए की चाल को देखकर ट्रेड हो रहा है, सेंसेक्स भले ही 34000 के ऊपर पहुंच गया हो लेकिन बाजार में जो सबसे ज्यादा बढ़ने वाली और सबसे ज्याद घटने वाली कंपनियां है उनमें तेजी और गिरावट रुपए की वजह से ही आई है। रुपए की कमजोरी की वजह से गुरुवार को निफ्टी पर आईटी सेक्टर की कंपनियों में सबसे ज्यादा मजबूती देखने को मिली है और ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट है।

सेंसेक्स और निफ्टी की बात करें तो सेंसेक्स ने आज 34055.36 का ऊपरी स्तर छुआ है जबकि निफ्टी ने 10437.55 का ऊपरी स्तर छुआ है। डॉलर के मुकाबले रुपया आज करीब 5 महीने के निचले स्तर पर है, डॉलर का भाव बढ़कर 65.36 रुपए हो गया है जो नवंबर 2017 के बाद सबसे अधिक भाव है।

रुपए की कमजोरी और अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी की वजह से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों में आज भी सबसे ज्यादा कमजोरी देखी जा रही है, भारत पेट्रोलियम, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और इंडियन ऑयल के शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की जा रही है।  रुपए की कमजोरी की वजह से निफ्टी पर सबसे ज्यादा तेजी एचसीएल, टीसीएस, इंफोसिस और टेक महिंद्रा के शेयरों में देखी जा रही है।

इस बीच शेयर बाजार की नजर शुक्रवार को आने वाले आईटी कंपनी इंफोसिस के नतीजों पर टिकी हुई है, शुक्रवार को इंफोसिस के मार्च तिमाही के नतीजे घोषित होंगे और अगर नतीजे अनुमान से अच्छे रहते हैं तो पूरे आईटी सेक्टर के साथ शेयर बाजार को इससे सहारा मिल सकता है।

Web Title: करेंसी की गिरफ्त में शेयर बाजार, IT कंपनियों में सबसे ज्यादा तेजी और तेल कंपनियों में सबसे ज्यादा गिरावट
Write a comment