1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. गिरावट के साथ खुले सेंसेक्‍स और निफ्टी, डॉलर के मुकाबले और भी ज्यादा टूट गया रुपया

गिरावट के साथ खुले सेंसेक्‍स और निफ्टी, डॉलर के मुकाबले और भी ज्यादा टूट गया रुपया

ग्‍लोबल मार्केट के मिले जुले संकेतों के चलते भारतीय शेयर बाजारों में आज सुबह से सुस्‍त कारोबार देखा जा रहा है। अमेरिका के ईरान परमाणु समझौते से अलग होने और आर्थिक प्रतिबंधों के चलते एशियाई बाजारों में चिंता का माहौल रहा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: May 09, 2018 12:29 IST
Stock Market  - India TV Paisa

Stock Market

 

नई दिल्‍ली। ग्‍लोबल मार्केट के मिले जुले संकेतों के चलते भारतीय शेयर बाजारों में आज सुबह से सुस्‍त कारोबार देखा जा रहा है। अमेरिका के ईरान परमाणु समझौते से अलग होने और आर्थिक प्रतिबंधों के चलते एशियाई बाजारों में चिंता का माहौल रहा। आज बाजार के दोनों प्रमुख सूचकांक सेंसेक्‍स और निफ्टी गिरावट के साथ खुले। सेंसेक्स 18 अंक टूटकर 35,198 के स्तर पर खुला। वहीं निफ्टी 24 अंक लुढ़ककर 10,639 अंक पर खुला। फिलहाल (सुबह 10.23 बजे) बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्‍स 10 अंकों की कमजोरी के साथ 35205 के स्‍तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं निफ्टी भी 9 अंकों की गिरावट के साथ 10709 अंकों पर ट्रेड कर रहा है।

आज बाजार में सबसे तेजी से बढ़ने वाले शेयरों की बात करें तो यहां पर सिंटेक्‍स इंडस्‍ट्री टॉप गेनर है। यह शेयर कल के मुकाबले 10 फीसदी की तेजी दिखा रहा है। इसके अलावा महिंद्रा हॉलिडे 4 फीसदी से ज्‍यादा की तेजी दिखा रहा है। इसके अलावा फर्स्‍टसोर्स सॉल्‍यूशन, रेलिगेयर, रैलिस इंडिया के शेयर भी 3 फीसदी से अधिक की तेजी दिखा रहे हैं। लुढ़कने वाले शेयरों की बात करें तो टाइम टेक्‍नोप्‍लास्‍ट, हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम के शेयर 3 फीसदी से ज्‍यादा टूट चुके हैं। वहीं चेन्‍नई पेट्रो और इंडियन ऑयल के शेयरों में भी 2 फीसदी से अधिक की गिरावट आई है।

वहीं आज करेंसी मार्केट में भी काफी उठापटक देखी जा रही है। आज रुपए की शुरुआत बड़ी गिरावट के साथ हुई। डॉलर के मुकाबले रुपया 26 पैसे टूटकर 67.34 के स्तर पर खुला। हालांकि मंगलवार को रुपए में मजबूती देखने को मिली। डॉलर के मुकाबले रुपया 6 पैसे की बढ़त के साथ 67.08 के स्तर पर बंद हुआ था। रुपए में गिरावट की मुख्य वजह तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी और इंपोर्टर्स द्वारा ज्यादा डॉलर की ज्यादा खरीद रही।

Write a comment
arun-jaitley