1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. कर्नाटक की अनिश्चतता से शेयर बाजार पर दबाव, बैंक शेयरों की सबसे ज्यादा धुलाई

कर्नाटक की अनिश्चतता से शेयर बाजार पर दबाव, बैंक शेयरों की सबसे ज्यादा धुलाई

कर्नाटक विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद सरकार बनाने को लेकर बढ़ी अनिश्चितता की वजह से आज भी शेयर बाजार पर दबाव देखने को मिला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी गिरावट के साथ बंद हुए हैं। सेंसेक्स 156.06 प्वाइंट की कमजोरी के साथ 35387.88 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 60.75 प्वाइंट घटकर 10741.10 पर बंद हुआ।

Manoj Kumar Manoj Kumar
Published on: May 16, 2018 15:54 IST
Sensex and Nifty fall on uncertainty over Karnatka Govt- India TV Paisa

Sensex and Nifty fall on uncertainty over Karnatka Govt

नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद सरकार बनाने को लेकर बढ़ी अनिश्चितता की वजह से आज भी शेयर बाजार पर दबाव देखने को मिला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी गिरावट के साथ बंद हुए हैं। सेंसेक्स 156.06 प्वाइंट की कमजोरी के साथ 35387.88 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 60.75 प्वाइंट घटकर 10741.10 पर बंद हुआ।

बाजार में आज सबसे ज्यादा गिरावट सरकारी बैंक शेयरों में देखने को मिली, सिंडीकेट बैंक का शेयर 12.45 प्रतिशत घटकर 43.95 पर बंद हुआ जबकि पंजाब नैशनल बैंक का शेयर 11.93 प्रतिशत की गिरावट के साथ 75.70 पर बंद हुआ। इनके अलावा बैंक ऑफ बड़ोदा में 5.55 प्रतिशत, ओरिएंटल बैंक में 3.86 प्रतिशत, इलाहाबाद बैंक में 3.47 प्रतिशत, बैंक ऑफ इंडिया में 2.77 प्रतिशत, स्टेट बैंक में 2.06 प्रतिशत और इंडियन बैंक में 1.90 प्रतिशत की भारी गिरावट देखने को मिली है।

मंगलवार को कर्नाटक विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद आज कर्नाटक में सभी दल अपनी तरफ से सरकार बनाने की कोशिश में जुटे रहे, हालांकि राज्यपाल ने अभी तक किसी को भी सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं किया है। दिन में भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने पूर्व मुख्य मंत्री बीएस यदियुरप्पा को विधायक दल का नेता चुना और यदियुरप्पा ने सरकार बनाने को लेकर राज्यपाल वाजूभाई वाला के साथ मुलाकात की। यदियुरप्पा की मुलाकात के बाद शेयर बाजार में कुछ रिकवरी जरूर आई थी लेकिन बाद में बाजार में फिर बिकवाली हावी हो गई।

Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban