1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. अमेरिकी दबाव के आगे सबसे कम झुका भारतीय शेयर बाजार, हफ्तेभर वैश्विक बाजारों के मुकाबले बहुत कम गिरावट

अमेरिकी दबाव के आगे सबसे कम झुका भारतीय शेयर बाजार, हफ्तेभर वैश्विक बाजारों के मुकाबले बहुत कम गिरावट

हफ्तेभर के दौरान हांगकांग का हैंगसैंग 9.5 प्रतिशत, चीन के बाजार शंघाई में 9.6 प्रतिशत और जापान के बाजार निक्केई 225 में 8.2 प्रतिशत की भारी गिरावट देखने को मिली है

Reported by: Manoj Kumar [Updated:11 Feb 2018, 5:20 PM IST]
Indian Stock Market- IndiaTV Paisa
Indian Stock Market is least looser among global meltdown

नई दिल्ली। भारतीय शेयर बाजारों के लिए यह हफ्ते बिकवाली भरा रहा है, लेकिन हफ्तेभर के दौरान दुनिया के शेयर बाजारों में जिस तरह की भारी बिकवाली आई है उतनी बिकवाली भारतीय बाजारों में नहीं दिखी। अमेरिकी शेयर बाजारों में आई गिरावट की वजह से 9 फरवरी को खत्म हफ्ते में वैश्विक बाजारों पर जो दबाव दिखा था उस दबाव के आगे अन्य वैश्विक बाजारों के मुकाबले भारतीय शेयर बाजार कम झुका है।

भारत को छोड़ अन्य एशियाई शेयर बाजार पिटे

आंकड़ों के मुताबिक अमेरिकी शेयर बाजारों में आई बिकवाली की वजह से 9 फरवरी को खत्म हफ्ते के दौरान सभी वैश्विक बाजारों में सबसे खराब हालत एशियाई शेयर बाजारों की ही हुई थी, लेकिन इसके बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत फंडामेंटल के दम पर भारतीय शेयर बाजार में ज्यादा बिकवाली नहीं आई। अन्य एशियाई बाजारों में हफ्तेभर के दौरान हांगकांग का हैंगसैंग 9.5 प्रतिशत, चीन के बाजार शंघाई में 9.6 प्रतिशत और जापान के बाजार निक्केई 225 में 8.2 प्रतिशत की भारी गिरावट देखने को मिली है जबकि भारतीय बाजार सेंसेक्स में हफ्तेभर के दौरान सिर्फ 3 प्रतिशत की गिरावट आई है।

अमेरिका, यूरोप और रूस के बाजारों में भी बिकवाली

अन्य वैश्विक बाजारों की बात करें तो हफ्तेभर के दौरान अमेरिकी शेयर बाजार डाओ जोन्स 5.4 प्रतिशत, नैस्डैक 5.3 प्रतिशत, यूके के बाजार FTSE 100 में 4.7 प्रतिशत, जर्मनी के बाजार DAX में 5.3 प्रतिशत, फ्रांस के बाजार CAC 40 में 5.3 प्रतिशत और रूस के बाजार MICEX में 3.7 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। सिर्फ भारतीय शेयर बाजारों में ही कम बिकवाली आई है।

Web Title: अमेरिकी दबाव के आगे सबसे कम झुका भारतीय शेयर बाजार, हफ्तेभर वैश्विक बाजारों के मुकाबले बहुत कम गिरावट
Write a comment