1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. BSE पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2.5 लाख करोड़ रुपए के शेयर रखे गिरवी, एक महीने में 1.64% की हुई वृद्धि

BSE पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2.5 लाख करोड़ रुपए के शेयर रखे गिरवी, एक महीने में 1.64% की हुई वृद्धि

देश में BSE पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स द्वारा गिरवी रखे गए शेयरों की संख्‍या जून अंत में 1.64 प्रतिशत बढ़कर 2.5 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गई है।

Abhishek Shrivastava [Updated:05 Jul 2017, 3:57 PM IST]
BSE पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2.5 लाख करोड़ रुपए के शेयर रखे गिरवी, एक महीने में 1.64% की हुई वृद्धि- India TV Paisa
BSE पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2.5 लाख करोड़ रुपए के शेयर रखे गिरवी, एक महीने में 1.64% की हुई वृद्धि

नई दिल्‍ली। देश में बंबई स्‍टॉक एक्‍सचेंज (BSE) पर लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स द्वारा गिरवी रखे गए शेयरों की संख्‍या जून अंत में 1.64 प्रतिशत बढ़कर 2.5 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गई है। मई अंत में यह आंकड़ा 2.45 लाख करोड़ रुपए का था। एक्‍सचेंज द्वारा जुटाए गए आंकड़ों के मुताबिक इस साल जून तक, बीएसई पर लिस्‍टेड 5,275 कंपनियों में से 3,072 कंपनियों ने अपने शेयर गिरवी रखे हैं।

प्रमोटर्स उसी कंपनी या अन्‍य प्रोजेक्‍ट के लिए धन जुटाने हेतु अपने शेयर गिरवी रखते हैं। निवेशकों द्वारा गिरवी रखे शेयरों के उच्‍च स्‍तर को अच्‍छा संकेत नहीं माना जाता है और बाजार में गिरावट के दौरान प्रबंधन में बदलाव भी हो सकता है। पिछले महीने के अंत में, गैर-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों (एनबीएफसी) के पास गिरवी रखे शेयरों का मूल्‍य 38,899 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।

इसके अलावा, 156 ऐसी कंपनियां हैं जिनके प्रमोटर्स ने अपनी 30-50 प्रतिशत तक हिस्‍सेदारी को गिरवी रखा है। 80 कंपनियों के प्रमोटर्स ने 50-75 प्रतिशत तक हिस्‍सेदारी को गिरवी रखा है। यह बीएसई द्वारा कुल लिस्‍टेड कंपनियों की संख्‍या, उनकी मार्केट कैपिटालाइजेशन, प्रमोटर्स के गिरवी रखे शेयरों की जानकारी, उस महीने के पांच कार्य दिवसों में उनकी वैल्‍यू के बारे में किए जाने वाले खुलासे का हिस्‍सा है। बीएसई ने एक बयान में कहा है कि इस कदम का मकसद बाजार के लिए अतिरिक्‍त जानकारी उपलब्‍ध कराना है।

Web Title: BSE कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2.5 लाख करोड़ रुपए के शेयर रखे गिरवी
Write a comment