1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. केवल 99 रुपए में खरीदिए नोकिया के स्‍मार्टफोन, जानिए क्‍या हैं इस ऑफर की विशेषताएं

केवल 99 रुपए में खरीदिए नोकिया के स्‍मार्टफोन, जानिए क्‍या हैं इस ऑफर की विशेषताएं

नोकिया ब्रांड से स्‍मार्टफोन बेचने वाली फ‍िनलैंड की कंपनी एचएमडी ग्‍लोबल ने भारत में अपना दिवाली ऑफर पेश किया है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 13, 2018 16:19 IST
Nokia Diwali Offer- India TV Paisa
Photo:NOKIA DIWALI OFFER

Nokia Diwali Offer

नई दिल्‍ली। नोकिया ब्रांड से स्‍मार्टफोन बेचने वाली फ‍िनलैंड की कंपनी एचएमडी ग्‍लोबल ने भारत में अपना दिवाली ऑफर पेश किया है। इस ऑफर के तहत उपभोक्‍ताओं को केवल 99 रुपए में नोकिया स्‍मार्टफोन खरीदने का मौका दिया जा रहा है। इस सेल के लिए ऑफर की अवधि 1 अक्‍टूबर 2018 से 10 नवंबर 2018 तक है।

इस ऑफर के तहत कंपनी ने नोकिया 1, नोकिया 2.1, नोकिया 3.1 प्‍लस, नोकिया 5.1, नोकिया 6.1 और नोकिया 8 सिरोको को 99 रुपए के डाउनपेमेंट पर बिक्री के लिए रखा है। नोकिया 3.1 प्‍लस 19 अक्‍टूबर से इस ऑफर के तहत बिक्री के लिए उपलब्‍ध होगा।

99 रुपए केवल प्रोसेसिंग फीस है और शेष राशि का भुगतान उपभोक्‍ताओं को आसान ईएमआई में करना होगा। ईएमआई के लिए अवधि के कई विकल्‍प दिए जाएंगे। नोकिया के ये फोन जीरो कॉस्‍ट ईएमआई और जीरो डाउन पेमेंट ऑफर के साथ भी उपलब्‍ध होंगे।

99 रुपए वाला ऑफर केवल उन्‍हीं उपभोक्‍ताओं के लिए है, जो एचडीबीएफएस, कैपिटल फर्स्‍ट और बजाज फाइनेंस लिमिटेड के ग्राहक हैं। जो उपभोक्‍ता फोन खरीदने के लिए लोन चाहते हैं वे इन कंपनियों से संपर्क कर सकते हैं। नोकिया अपने फोन पर अन्‍य ऑफर भी दे रही है, जिसमें एचडीएफसी बैंक के क्रेडिट या डेबिट कार्उ पर 10 प्रतिशत का कैशबैक शामिल है।

जो उपभोक्‍त एचडीएफसी डेबिट कार्उ और क्रेडिट कार्ड ईएमआई, डेबिट कार्ड ईएमआई और क्रेडिट कार्ड रेगूलर ट्रांजेक्‍शन के जरिये नोकिया सिरोको को खरीदेंगे उन्‍हें कंपनी 15 प्रतिशत का कैशबैक देगी। कैशबैक ऑफर प्रति कार्ड एक ट्रांजेक्‍शन पर ही वैध होगा। यह ऑफर कॉरपोरेट, बिजनेस और कॉमर्शियल क्रेडिट कार्ड होल्‍डर्स के लिए लागू नहीं होगा। नोकिया के ये फोन उपरोक्‍त ऑफर्स के साथ नोकिया डॉट कॉम, क्रोमा, विजय सेल्‍स और जियो डिजिटल लाइफ पर उपलब्‍ध हैं।

Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban