1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. Apple Watch Service को लेकर Jio ने Airtel के खिलाफ शिकायत दर्ज की, बताया नियमों का उलंघन

Apple Watch Service को लेकर Jio ने Airtel के खिलाफ शिकायत दर्ज की, बताया नियमों का उलंघन

रिलायंस जियो ने आरोप लगाया गया है कि एयरटेल Apple Watch Series-3 पर e-Sim सेवाओं की पेशकश कर रही है जो लाइसेंस नियमों का उल्लंघन है। जियो ने इस सेवा को तत्काल बंद करने की मांग की है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 13, 2018 14:21 IST
Reliance Jio has filed complaint against Bharti Airtel with the DoT- India TV Paisa

Reliance Jio has filed complaint against Bharti Airtel with the DoT

नई दिल्ली। रिलायंस जियो ने भारती एयरटेल के खिलाफ दूरसंचार विभाग में शिकायत दर्ज कराई है। इसमें आरोप लगाया गया है कि एयरटेल Apple Watch Series-3 पर e-Sim सेवाओं की पेशकश कर रही है जो लाइसेंस नियमों का उल्लंघन है। जियो ने इस सेवा को तत्काल बंद करने की मांग की है। दूरसंचार विभाग को लिखे पत्र में जियो ने कहा कि Apple Watch Series-3 सेवा की पेशकश एयरटेल द्वारा यूनिफाइड लाइसेंस शर्तों का उल्लंघन कर की जा रही है।

इस बारे में भारती एयरटेल को भेजे ई - मेल का तत्काल जवाब नहीं मिल पाया। रिलायंस जियो और भारती एयरटेल दोनों 11 मई से अपने बिक्री चैनलों के माध्यम से Apple Watch Series-3 की पेशकश कर रही हैं। किसी ग्राहक के Apple Watch और iPhone एक ही नंबर साझा करते हैं। ग्राहक e-Sim के जरिये iPhone और Apple Watch दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं और अन्य उपकरणों की कॉल की स्थिति अलग से कॉल कर सकते हैं या रिसीव कर सकते हैं।

e-Sim को iPhone के सिम के साथ वायरलेस के जरिए संयुक्त कर दिया जाता है। e-Sim के परिचयस्थल के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले नोड (संपर्क बिंदु) में नेटवर्क और प्रयोगकर्ता की जानकारी शामिल होती है। इसमें आपरेटर की पचाहन, सिम का विवरण, पिन, सिम की फाइलों को दूर बैठक कर नियंत्रित करने की व्यवस्था भी शामिल होती है। 

11 मई को लिखे इस पत्र में जियो ने आरोप लगाया है कि एयरटेल ने इस मामले में e-Sim के प्रावधान के लिए नोड भारत के अंदर स्थापित नहीं किए हैं। कंपनी का कहना है कि एयरटेल के Apple Watch Series-3 सेवाओं के लिए इस्तेमाल किए जा रहे जरूरी सर्वर विदेश में लगाए हैं, जो लाइसेंस की शर्तों का खुला उल्लंघन है। यूनिफाइड लाइसेंस के अनुसार कोई भी दूरसंचार कंपनी अपने सर्वर देश के बाहर नहीं लगा सकती। 

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी का कहना है भारती एयरटेल को वैध तरीके से रोक या निगरानी का काम नहीं किया है। एयरटेल द्वारा सेवा शुरू करने से पहले इस तरह का महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना राष्ट्रीय सुरक्षा हितों से समझौता है। जियो ने यह भी आरोप लगाया है कि एयरटेल ने नेटवर्क के एक महत्वपूर्ण हिस्से को देश से बाहर लगाने का कार्य जानबूझकर किया है। 

Write a comment