1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. स्मार्टफोन हो सकत हैं महंगे, चीन से आयात होने वाले पार्ट्स पर लग सकता है आयात शुल्क: सूत्र

स्मार्टफोन हो सकत हैं महंगे, चीन से आयात होने वाले पार्ट्स पर लग सकता है आयात शुल्क: सूत्र

सरकार चीन से आयात होने वाले स्मार्टफोन के पार्ट पर आयात शुल्क लगाने की तैयारी कर रही है

Manoj Kumar Manoj Kumar
Published on: September 20, 2018 14:09 IST
Govt likely to impose some tariffs on mobile handset components mainly imported from China- India TV Paisa

Govt likely to impose some tariffs on mobile handset components mainly imported from China

नई दिल्ली। स्मार्टफोन की कीमतों में आने वाले दिनों में कुछ बढ़ोतरी होने की आशंका बढ़ गई है, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सरकार चीन से आयात होने वाले स्मार्टफोन के पार्ट पर आयात शुल्क लगाने की तैयारी कर रही है। ऐसा होने की स्थिति में देश में स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियों की लागत बढ़ जाएगी और वह इस लागत को ग्राहकों से निकालने के लिए स्मार्टफोन की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं।

केंद्र सरकार ने अप्रैल में भी स्मार्टफोन के पार्टस पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया था, अब अगर फिर से आयात शुल्क बढ़ता है तो इससे देश में स्मार्टफोन बनाना महंगा पड़ेगा जिससे कीमत भी बढ़ सकती है। भारतीय में स्मार्टफोन बाजार पर चीनी मोबाइल कंपनियों की पकड़ मजबूत हो गई है, भारत में चीनी कंपनियां जो मोबाइल फोन बेच रही हैं उनमें अधिकतर का उत्पादन भारत में ही कर रही हैं लेकिन कई पार्ट्स का आयात चीन से हो रहा है।

दरअसल देश में लगातार बढ़ रहे इलेक्ट्रोनिक्स वस्तुओं के आयात से चालू खाते का घाटा भी बढ़ रहा है। ऐसे में चालू खाते को घाटे को कम करने के लिए सरकार गैर जरूरी वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाने की योजना बना रही है और इसकी शुरुआत स्मार्टफोन के पार्ट्स से हो सकती है।

वैश्विक स्तर पर आईटी और टेलिकॉम मार्केट से जुड़ी जानकारी मुहैया कराने वाली संस्था IDC के मुताबिक चीन की कंपनी Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा स्मार्टफोन बेच रही है, IDC के मुताबिक जून तिमाही के दौरान भारतीय स्मार्टफोन बाजार पर Xiaomi की हिस्सेदारी बढ़कर 29.7 प्रतिशत पहुंच गई है जबकि कोरियाई कंपनी Samsung की हिस्सेदारी 23.9 प्रतिशत रह गई है। चीनी कंपनी Vivo की हिस्सेदारी 12.6 प्रतिशत और Oppo की हिस्सेदारी 7.6 प्रतिशत दर्ज की गई है। यानि कुल मिलाकर लगभग 50 प्रतिशत भारतीय बाजार पर चीनी कंपनियों का कब्जा हो चुका है।

Write a comment