1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. BSNL, MTNL के विलय प्रस्‍ताव पर काम रहा है दूरसंचार विभाग, पीएम मोदी की अध्‍यक्षता में कैबिनेट करेगी अंतिम फैसला

BSNL, MTNL के विलय प्रस्‍ताव पर काम रहा है दूरसंचार विभाग, पीएम मोदी की अध्‍यक्षता में कैबिनेट करेगी अंतिम फैसला

बीएसएनएल के कर्मचारियों की संख्या 1,65,179 है। कंपनी की कुल आमदनी में से कर्मचारियों के वेतन भुगतान की लागत 75 प्रतिशत बैठती है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 30, 2019 16:31 IST
DoT working on proposal for MTNL, BSNL merger; final call by Cabinet- India TV Paisa
Photo:DOT WORKING ON PROPOSAL F

DoT working on proposal for MTNL, BSNL merger; final call by Cabinet

नई दिल्‍ली। दूरसंचार विभाग नकदी संकट से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) और भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के विलय प्रस्‍ताव पर काम कर रहा है। एक सूत्र ने मंगलवार को कहा कि विभाग इन कंपनियों को फिर खड़ा करने की कोशिश कर रहा है। मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि इन कंपनियों को पटरी पर लाने के लिए जिन चीजों पर विचार किया जा रहा है उनमें विलय भी एक है। इस बारे में अंतिम फैसला केंद्रीय मंत्रिमंडल करेगा।

 

यह कदम इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि एमटीएनएल और बीएसएनएल को लगातार घाटा हो रहा है और हाल के समय में उन्हें अपने कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने में भी दिक्कतें आई हैं। सूत्र ने कहा कि कुल पुनरोद्धार योजना में विलय का विकल्प भी शामिल है। इसकी वजह यह है कि बीएसएनएल अपने दम पर अस्तित्व पर बनी नहीं रह पाएगी। इस पर अंतिम फैसला मंत्रिमंडल को करना है।

उसने कहा कि योजना यह है कि एमटीएनएल का बीएसएनएल में विलय कर दिया जाए। एमटीएनएल दिल्ली और मुंबई में टेलीफोनी सेवाएं देती है, जबकि शेष सर्किलों में बीएसएनएल सेवाएं देती है। दूरसंचार विभाग इन कंपनियों के बचाव के लिए पुनरोद्धार पैकेज पर काम कर रहा है। इसमें स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस), संपत्ति का मौद्रिकरण और 4जी स्पेक्ट्रम का आवंटन जैसे विकल्प शामिल हैं।

संसद में दी गई सूचना के अनुसार बीएसएनएल का घाटा वित्‍त वर्ष 2018-19 में बढ़कर 14,202 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है। आलोच्य वित्त वर्ष में कंपनी का राजस्व 19,308 करोड़ रुपए रहा। बीएसएनएल के कर्मचारियों की संख्या 1,65,179 है। कंपनी की कुल आमदनी में से कर्मचारियों के वेतन भुगतान की लागत 75 प्रतिशत बैठती है। वहीं निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल के कर्मचारियों की संख्या 20,000 है और कर्मचारियों की लागत कंपनी की आय का मात्र 2.95 प्रतिशत है। इसी तरह वोडाफोन के कर्मचारियों की संख्या 9,883 है और कर्मचारियों की लागत उसकी आय का 5.59 प्रतिशत है।

एक अप्रैल, 2019 को बीएसएनएल का नेटवर्थ 34,276 करोड़ रुपए (लेखा परीक्षण के बिना और अस्थायी) था। वहीं एमटीएनएल का नेटवर्थ नकारात्मक 9,735 करोड़ रुपए था। संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पिछले महीने लोकसभा में कहा था कि सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों को बंद करने का कोई प्रस्ताव नहीं है और उनके पुनरोद्धार के लिए एक व्यापक योजना बनाई जा रही है।

Write a comment