1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. Jio की टक्कर में Airtel-Vodafone-Idea लाएंगी VoLTE सर्विसेज, सितंबर तक कर सकती है लॉन्च

Jio की टक्कर में Airtel-Vodafone-Idea लाएंगी VoLTE सर्विसेज, सितंबर तक कर सकती है लॉन्च

टेलीकॉम सेक्टर की तीन बड़ी कंपनी Idea, Airtel और Vodafone भी Reliance Jio की टक्कर में वॉइस ओवर एलटीई यानी VoLTE सर्विसेज लॉन्च करने की तैयारी में है।

Ankit Tyagi Ankit Tyagi
Updated on: May 26, 2017 10:51 IST
Jio की टक्कर में Airtel-Vodafone-Idea लाएंगी VoLTE सर्विसेज, सितंबर तक कर सकती है लॉन्च- India TV Paisa
Jio की टक्कर में Airtel-Vodafone-Idea लाएंगी VoLTE सर्विसेज, सितंबर तक कर सकती है लॉन्च

नई दिल्ली। टेलीकॉम सेक्टर की तीन बड़ी कंपनी Idea, Airtel और Vodafone भी Reliance Jio की टक्कर में वॉइस ओवर एलटीई यानी VoLTE सर्विसेज लॉन्च करने की तैयारी में है। माना जा रहा है कि ये तीनों कंपनी सितंबर अंत तक इसकी शुरुआत कर सकती है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस कदम से मार्केट में पहले से मौजूद टेलिकॉम ऑपरेटर्स अपने कम खर्च वाले सब्सक्राइबर्स को मुकेश अंबानी की जियो पर जाने से रोक पाने में सफल हो सकती हैं। आपको बता दें कि जियो फिलहाल पूरी तरह से VoLTE नेटवर्क पर है और फ्री वॉयस कॉल्स ऑफर कर रही है। यह भी पढ़े: Idea ने शुरू की देश भर में 4G सर्विस, ग्राहकों को मुफ्त मिलेगा 10 GB 4G डाटा

कॉमर्शियल ट्रायल्स शुरू

बिजनेस के अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक अखबार को एक शख्स ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि एयरटेल की VoLTE योजनाएं ट्रैक पर हैं क्योंकि इसने मुंबई और दिल्ली में कॉमर्शियल ट्रायल्स शुरू कर दिए हैं और जल्द ही कंपनी इंडिया में कमर्शल तौर पर इसका लॉन्च कर सकती है। वहीं, वोडाफोन ने टेक्नॉलजी का बेसिक ट्रायल कर लिया है और वह अपनी VoLTE सर्विसेज को लॉन्च करने की तैयारी में है। यह भी पढ़े: दूरसंचार क्षेत्र में उथल-पुथल थमेगी, नौकरियों पर कोई खतरा नहीं: सिन्हा

 Idea अगली तिमाही में शुरू कर सकती है VoLTE सर्विसेज 

टेस्टिंग पूरी करने के बाद आइडिया सेल्युलर जुलाई-सितंबर क्वॉर्टर में अपनी VoLTE सर्विसेज को लॉन्च कर सकती है और इसमें 2 से 2.5 करोड़ कस्टमर्स को कवर कर सकती है।आइडिया सेल्युलर के मैनेजिंग डायरेक्टर हिमांशु कपानिया ने हाल में कहा था कि उनकी कंपनी अगले दो क्वॉर्टर्स में VoLTE को पेश कर देगी। उन्होंने कहा था, शुरुआत में हम करीब 2 से 2.5 करोड़ कस्टमर्स के लिए VoLTE लाने की योजना बना रहे हैं। यह इंडिया में हमारी 4जी उम्मीदों को पूरा करने में समर्थ होगी।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक जियो के बाहर VoLTE डिवाइस का विस्तार शायद अभी बड़े तबके तक नहीं हुआ है, इसी वजह से अभी तक एयरटेल और दूसरी पहले से मौजूद टेलिकॉम कंपनियों ने VoLTE सर्विसेज शुरू नहीं की हैं।यह भी पढ़े: BSNL ने लॉन्च किया एक और बड़ा धमाकेदार ऑफर, ग्राहकों को मिलेगा रोजाना 10 GB इंटरनेट डाटा

कंपनियों को होगा फायदा

VoLTE से ऑपरेटर को वॉयस और डेटा दोनों ऑफर करने की सहूलियत मिलती है। इसमें वॉइस एक ऐप्लिकेशन की तरह से काम करती है जो कि एलटीई डेटा नेटवर्क पर चलती है। पहले से मौजूद टेलिकॉम कंपनियां फिलहाल सर्किट-स्विच टेक्नोलॉजी पर कॉलिंग ऑफर कर रही हैं। यह भी पढ़े: Jio का असर: मूडीज ने भारती एयरटेल के रेटिंग आउटलुक को स्टेबल से घटाकर निगेटिव किया

क्या है VoLTE

GSM, UMTS और CDMA2000 (2G या 3G) में कॉलिंग ‘सर्किट स्विच्ड’ होती है। यानी जब एक फोन से दूसरे में कॉल की जाती है, दोनों टेलिफोन के बीच सेल्यूलर नेटवर्क के जरिए एक तरह का सर्किट बनाना पड़ता है। यह सर्किट तब तक बना रहता है, जब तक कॉल बनी रहे। मगर VoLTE में ऐसा इंजिनियर्ड नेटवर्क बनाया जाता है, जो IP मल्टीमीडिया सबसिस्टम नेटवर्क पर आधारित होता है। इसमें वॉइस कॉलिंग LTE से डेटा के जरिए ही की जाती। इसमें ‘सर्किट स्विच वॉइस नेटवर्क’ जैसा कुछ नहीं करना पड़ता। इसीलिए इसकी क्वॉलिटी भी अच्छी होती है। यह भी पढ़े: GST से टेलीकॉम सेवाएं हो जाएंगी महंगी, दूरसंचार कंपनियों ने जताई अपनी नाराजगी

 कैसे काम करता है VoLTE

ज्यादातर कंपनियां अभी वॉइस कॉलिंग के लिए ‘सर्किट स्विच्ड’ 2G या 3G नेटवर्क इस्तेमाल कर रही हैं। मगर VoLTE में वॉइस कॉल्स को 4G LTE के जरिए किया जाता है। आसान भाषा में इसे यूं समझा जा सकता है कि आप डेटा की मदद से जिस तरह विभिन्न ऐप्स इस्तेमाल करते हैं, उसी तरह से वॉइस कॉलिंग भी डेटा की मदद से होती है। इसमें आवाज को एक ऐप की ही तरह डेटा के जरिए भेजा और रिसीव किया जाता है।

 क्या हैं VoLTE के फायदे

VoLTE से ऑपरेटर को वॉइस और डेटा के लिए अलग बैंड इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं पड़ती। वॉइस डेटा को एक ऐप के डेटा की तरह ही LTE डेटा नेटवर्क के जरिए संचारित किया जा सकता है। इसी टेक्नॉलजी को रिलायंस जियो इस्तेमाल कर रहा है। वहीं अन्य कंपनियां सिर्फ डेटा के लिए 4G LTE का इस्तेमाल कर रही हैं। वॉइस कॉलिंग के लिए वे अपने 3G या 2G सेल्यूलर नेटवर्क को इस्तेमाल कर रही हैं। इस हिसाब से VoLTE ऑपरेशन में सुविधाजनक होने के साथ सस्ती तकनीक भी है।

Write a comment