1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अगर नहीं होता विश्व व्यापार संगठन, तो दुनिया में शुरू हो गया होता व्यापार युद्ध

बोले डब्‍ल्‍यूटीओ प्रमुख अगर नहीं होता विश्व व्यापार संगठन, तो दुनिया में अब तक शुरू हो गया होता व्यापार युद्ध

विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के महानिदेशक ने आज मुक्त व्यापार व्यवस्था पर बढ़ रहे खतरों के बीच नियम आधारित व्यापार के संचालन के लिए बनाए गए इस बहुपक्षीय संगठन की उपयोगिता को रेखांकित किया

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Published on: March 15, 2018 17:18 IST
WTO- India TV Paisa
WTO

नई दिल्‍ली। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के महानिदेशक ने आज मुक्त व्यापार व्यवस्था पर बढ़ रहे खतरों के बीच नियम आधारित व्यापार के संचालन के लिए बनाए गए इस बहुपक्षीय संगठन की उपयोगिता को रेखांकित किया और कहा कि आज अगर डब्ल्यूटीओ नहीं होता तो दुनिया में पहले ही व्यापार युद्ध शुरू हो चुका होता। 

लैटिन अमेरिका पर विश्व आर्थिक मंच की बैठक में डब्ल्यूटीओ प्रमुख रोबर्टो एजेवेदो ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का इस्पात और एल्युमीनियम आयात पर शुल्क लगाने के निर्णय से डब्ल्यूटीओ और प्रासंगिक बन गया है। ऐसी आशंका है कि अमेरिका के इस कदम से दूसरे देश भी बदले की कार्रवाई कर सकते हैं और इससे व्यापार युद्ध छिड़ सकता है। यूरोपीय देश पहले ही अमेरिकी वस्तुओं पर शुल्क लगाने की चेतावनी दे रहे हैं।  

वैश्वीकरण पर एक परिचर्चा में एजेवेदो ने संवाददाताओं से कहा कि अगर डब्ल्यूटीओ नहीं होता, दुनिया में व्यापार युद्ध शुरू हो चुका होता। ट्रंप ने आयातित इस्पात पर 25 प्रतिशत और एल्युमीनियम पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाने का आदेश दिया है। हालांकि उन्होंने अस्थायी रूप से कनाडा और मेक्सिको को इससे छूट दी है। 

ब्राजील के राष्ट्रपति माइकल टेमेर ने कल आगाह किया कि अगर अमेरिका के साथ बातचीत के जरिये मामले का सौहार्दपूर्ण हल नहीं निकलता, तो उनका देश शुल्क के मामले को डब्ल्यूटीओ में ले जाएगा। 

अमेरिका में वस्तुओं के आयात पर नए शुल्कों से ब्राजील विशेष रूप से प्रभावित हो सकता है। कनाडा के बाद ब्राजील ही अमेरिका में आयातित इस्पात का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत है। टेमेर ने शुल्क को चिंता का विषय बताया और कहा कि जरूरत पड़ने पर वह प्रभावित देशों के साथ डब्ल्यूटीओ में जाएगा। 

Write a comment