1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. बढ़ती ही जा रही हैं PNB की मुश्किलें, बैंक के बड़े कर्जदारों की फंसी राशि अप्रैल में बढ़कर 15,200 करोड़ रुपए हुई

बढ़ती ही जा रही हैं PNB की मुश्किलें, बैंक के बड़े कर्जदारों की फंसी राशि अप्रैल में बढ़कर 15,200 करोड़ रुपए हुई

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के बड़े कर्जदारों द्वारा जानबूझ कर नहीं चुकाए जाने वाले बड़े कर्जदारों की राशि अप्रैल अंत में बढ़कर 15,199.57 करोड़ रुपए हो गई।

Manish Mishra Manish Mishra
Published on: May 20, 2018 18:04 IST
Punjab National Bank- India TV Paisa

Punjab National Bank

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के बड़े कर्जदारों द्वारा जानबूझ कर नहीं चुकाए जाने वाले बड़े कर्जदारों की राशि अप्रैल अंत में बढ़कर 15,199.57 करोड़ रुपए हो गई। सार्वजनिक क्षेत्र के इस बैंक को धोखाधड़ी घोटाले व फंसे कर्ज के चलते 2017- 18 की जनवरी- मार्च तिमाही में 13,400 करोड़ रुपए से अधिक का घाटा हुआ। PNB के आंकड़ों के अनुसार, मार्च में समाप्त 2017-18 वर्ष में बैंक की जानबूझ कर नहीं चुकाए गये बड़े कर्जों की राशि 15,171.91 करोड़ रुपए रही, अप्रैल में यह राशि और बढ़कर 15,200 करोड़ रुपए तक पहुंच गई।

बैंक ने ‘जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले बड़े कर्जदारों’ की श्रेणी में उन कर्जदारों को रखा है जिन पर 25 लाख रुपए या इससे अधिक का कर्ज है। उल्लेखनीय है कि हीरा कारोबारी नीरव मोदी व उसके सहयोगियों द्वारा कथित रूप से किए गए 14,357 करोड़ रुपए के घपले की मार पहले ही बैंक पर है।

बैंक के बड़े कर्जदारों की सूची के कुछ प्रमुख नाम कुदोज कैमी 1,301.82 करोड़ रुपए, किंगफिशर एयरलाइंस 597.44 करोड़ रुपए, बीबीएफ इंडस्ट्रीज 100.99 करोड़ रुपए, आईसीएसए इंडिया लि. 134.76 करोड़ रुपए, अरविंद रेमेडीज 158.16 करोड़ रुपए, इंदु प्रोजेक्टस लि. 102.83 करोड़ रुपए, जस इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड पावर लि. 410.96 करोड़ रुपए, वीएमसी सिस्टम्स लिमिटेड 296.08 करोड़ रुपए, एमबीएस जूलर्स प्रा. लि. 266.17 करोड़ रुपए शामिल है। ये वे कर्जदार वे हैं जिन्होंने पीएनबी की अगुवाई वाले बैंकिंग समूह से कर्ज ले रखा है।

विंसम डायमंड एंड ज्वैलरी लि 899.70 करोड़ रुपए, जूम डेवलपर्स 410.18 करोड़ रुपए, फारएवर प्रीसियस ज्वैलरी एण्ड डायमंड लि. 747.98 करोड़ रुपए कुछ अन्य कंपनियां हैं जिन्होंने पूरा कर्ज पीएनबी से ही लिया है।

Write a comment