1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अमेरिका ने दिया मंदी आने का स्‍पष्‍ट संकेत, आर्थिक संकट से बचने के लिए कर कटौती पर कर रहा है विचार

अमेरिका ने दिया मंदी आने का स्‍पष्‍ट संकेत, आर्थिक संकट से बचने के लिए कर कटौती पर कर रहा है विचार

एक सर्वेक्षण में अधिकांश अर्थशास्त्रियों ने आंशका जताई है कि दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अगले दो साल में मंदी की चपेट में आ सकती है

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: August 20, 2019 16:10 IST
US gives clear indication of recession, considering tax cuts to avoid economic crisis- India TV Paisa
Photo:US GIVES CLEAR INDICATION

US gives clear indication of recession, considering tax cuts to avoid economic crisis

वाशिंगटन। अमेरिका में मंदी की खबरों के बीच राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस इससे निपटने के लिए कर कटौती और शुल्क वापसी पर विचार कर रहा है। अमेरिकी अखबार द वाशिंगटन पोस्ट ने अपनी खबर में कहा कि व्हाइट हाउस के वरिष्ठ अधिकारी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाने पर विचार कर रहे हैं।

इसमें वेतनभोगियों पर आयकर में अस्थायी कटौती भी शामिल है ताकि कर्मचारियों के हाथ में आने वाला वेतन कुछ बढ़ सके। द न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक ट्रंप सरकार चीन से आयातित उत्पादों पर लगाए गए नए शुल्क को भी वापस लेने पर विचार कर रही है।

अखबार ने कहा कि अभी बातचीत शुरुआती स्तर पर है और अधिकारियों ने अभी अपने विचार ट्रंप के सामने नहीं रखे हैं। वहीं, व्हाइट हाउस ने खबरों को विवादित बताते हुए कहा कि पेरोल कर में कटौती जैसी चीज पर इस समय कोई विचार नहीं हो रहा है। ट्रंप ने रविवार को संवाददाताओं से कहा था कि मैं हर बात के लिए तैयार हूं। मुझे नहीं लगता कि हम मंदी में पड़ेंगे। हम बहुत अच्छा चल रहे हैं।

सोमवार को जारी एक सर्वेक्षण में अधिकांश अर्थशास्त्रियों ने आंशका जताई है कि दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अगले दो साल में मंदी की चपेट में आ सकती है लेकिन मंदी का यह चक्र अगले साल या उससे अगले साल शुरू हो सकता।

कंपनियों के अर्थशास्त्रियों के संगठन नेशनल एसोसिएशन फॉर बिजनेस इकोनॉमिस्‍ट (एनएबीई)  के ताजा सर्वे में 226 में केवल दो प्रतिशत ने कहा कि मंदी इसी साल शुरू हो सकती है। 38 प्रतिशत अर्थशास्त्रियों ने कहा कि अमेरिका अगले साल मंदी में पड़ सकता है, जबकि 34 प्रतिशत ने कहा कि यह इससे अगले साल (2021) से पहले नहीं होगा।

Write a comment