1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. धनतेरस पर हल्के आभूषणों की होगी भारी डिमांड, मेकिंग चार्ज पर मिलेगी 50 फीसदी तक की छूट

धनतेरस पर हल्के आभूषणों की होगी भारी डिमांड, मेकिंग चार्ज पर मिलेगी 50 फीसदी तक की छूट

हर बार की तरह इस बार भी धनतेरस से पहले सर्राफा बाजार सज चुका है और ग्राहकों का इंतजार किया जा रहा है। 

IANS IANS
Published on: October 20, 2019 18:29 IST
gold jewelery- India TV Paisa

gold jewelery

नई दिल्ली। धनतेरस से पहले भारतीय सर्राफा बाजार में इस बार हल्के आभूषणों की खास तैयारी की गई है, क्योंकि सोने और चांदी के भाव ऊंचे होने से हल्के आभूषणों में ग्राहकों की दिलचस्पी ज्यादा रहने की उम्मीद की जा रही है। भारत में महंगी धातुओं की खरीद के लिए धनतेरस को शुभ-मुहूर्त माना जाता है। धन-तेरस और पुष्य नक्षत्र के अवसर पर पूरे साल में सबसे ज्यादा सोने और चांदी व हीरे के आभूषणों की खरीद होती है।

जयपुर के आभूषण कारोबारी सुशील मेघराज ने बताया कि हर साल की तरह इस बार भी धनतेरस से पहले गुलाबी शहर का सर्राफा बाजार सज चुका है और ग्राहकों का इंतजार किया जा रहा है। खास तैयारी को लेकर पूछे गए सवाल पर मेघराज ने कहा, "पिछले साल के मुकाबले इस साल सोने-चांदी के भाव काफी ऊंचे हैं, इसलिए ग्राहकों के बजट को ध्यान में रखते हुए हल्के आभूषणों की खास तैयारी की गई है और मेकिंग पर 15-25 फीसदी तक की छूट की पेशकश की जा रही है।"

आभूषण कारोबारियों ने बताया कि सोने और चांदी के हल्के आभूषणों के लुभावने डिजाइन तैयार किए गए हैं। जेम एंड ज्वेलरी ट्रेड काउंसिल ऑफ इंडिया (जीजेटीसीआई) के प्रेसीडेंट शांति भाई पटेल ने बताया कि ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए आभूषण कारोबारियों ने अहमदाबाद में सोने के आभूषणों की मेकिंग पर 50 फीसदी तक छूट की पेशकश की है। उन्होंने कहा, "धनतेरस से पहले 22 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र है, जिसे महंगी धातु खरीद के लिए शुभ मुहूर्त माना जाता है। इसलिए सर्राफा बाजार में ग्राहकों की चहलकदमी पूरे सप्ताह बनी रहेगी।"

पटेल ने कहा कि इस बार हल्के आभूषणों के साथ-साथ सोने और चांदी के सिक्कों की बिक्री ज्यादा होने की उम्मीद है। पिछले महीने सोने का भाव देश के सर्राफा बाजार में 40,000 रुपए प्रति 10 ग्राम से ऊपर चला गया था, जबकि चांदी का भाव 50,000 रुपए प्रति किलो को पार कर गया था। हालांकि हाल के दिनों में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने-चांदी का भाव टूटने के बाद घरेलू बाजार में भी महंगी धातुओं के दाम में गिरावट आई है। कमोडिटी बाजार विश्लेषकों का मानना है कि गिरावट पर लिवाली जोर पकड़ेगी, जिससे धनतेरस पर देश के सर्राफा बाजार में खूब रौनक देखने को मिलेगी।

केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने कहा कि जियोपॉलिटक टेंशन के कारण सोने और चांदी के भाव को लगातार सपोर्ट मिल रहा है, लेकिन घरेलू बाजार में 12.5 फीसदी आयात शुल्क और तीन फीसदी जीएसटी के कारण दाम ऊंचा हो जाता है, लेकिन त्योहारी सीजन की मांग फिर भी बनी रहेगी क्योंकि आगे शादी का सीजन है जिसके लिए लोग धनतेरस के शुभ मुर्हूत पर खरीदारी करना चाहेंगे। देश के प्रमुख सर्राफा बाजार अहमदाबाद में बीते शुक्रवार को 22 कैरट सोने का भाव 39,410 रुपए और 24 कैरट का भाव 39,540 रुपए प्रति 10 ग्राम था। इस भाव में जीएसटी (तीन फीसदी) भी शामिल है।

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर बीते शुक्रवार को सोने का दिसंबर वायदा अनुबंध 106 रुपये फिसल कर 38,090 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ जबकि चार सितंबर को सोने का भाव 39,885 रुपए प्रति 10 ग्राम तक चला गया था। एमसीएक्स पर चांदी का दिसंबर अनुबंध बीते शुक्रवार को 45 रुपए की कमजोरी के साथ 45,500 रुपए प्रति किलो पर बंद हुआ जबकि चार सितंबर को चांदी का भाव 50,672 रुपए प्रति किलो तक चला गया था।

Write a comment
bigg-boss-13