1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. आज से सस्‍ते हो गए सैनिटरी नैपकिन, फ्रिज, फुटवियर जैसे 85 प्रोडक्‍ट, पहले से कम लेगेगा GST

आज से सस्‍ते हो गए सैनिटरी नैपकिन, फ्रिज, फुटवियर जैसे 85 प्रोडक्‍ट, पहले से कम लेगेगा GST

सैनिटरी नैपकिन , फुटवियर और रेफ्रिजरेट सहित करीब 88 आम इस्तेमाल के उत्पाद शुक्रवार से सस्ते हो गए हैं। इन उत्पादों पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में कटौती की गई है।

Sachin Chaturvedi Sachin Chaturvedi
Published on: July 27, 2018 9:34 IST
Super Market- India TV Paisa

Super Market

नई दिल्ली। सैनिटरी नैपकिन , फुटवियर और रेफ्रिजरेट सहित करीब 88 आम इस्तेमाल के उत्पाद शुक्रवार से सस्ते हो गए हैं। इन उत्पादों पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में कटौती की गई है। यह कटौती 27 जुलाई से लागू हो रही है। वित्त मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता वाली जीएसटी परिषद ने पिछले सप्ताह 28 प्रतिशत के सबसे ऊंचे कर स्लैब से कई उत्पादों को हटाया था और उन्हें 18 प्रतिशत कर स्लैब में डाला गया था। नई कर दरें 27 जुलाई से लागू होनी हैं।

जिन प्रोडक्‍ट पर जीएसटी कम हो रहा है। उसमें रेफ्रिजरेटर , वॉशिंग मशीन , छोटी स्क्रीन वाला टीवी , स्टोरेज वॉटर हीटर , पेंट शामिल हैं। आज से इन पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। इन उत्पादों पर पहले 28 प्रतिशत की जीएसटी दर लागू थी।  सैनिटरी नैपकिन को जीएसटी से छूट दे दी गई है। पहले इसपर 12 प्रतिशत कर लागू था।

राखी को जीएसटी से छूट

जीएसटी परिषद ने कई उत्पादों पर कर में कटौती की है। राखी को जीएसटी से छूट दी गयी है , एथनॉल पर कर को कम करके 5 प्रतिशत किया गया और दस्तकारी के छोटे सामानों को कर से छूट दी गयी है।

इन उत्पादों पर जीएसटी 18 से घटाकर 12 फीसदी की गई

निर्माण क्षेत्र के काम आने वाले तराशे हुये कोटा पत्थर, सैंड स्टोन और इसी गुणवत्ता के अन्य स्थानीय पत्थरों पर जीएसटी की दर को 18 से घटाकर 12 प्रतिशत किया गया है।

जूते-चप्पल पर अब 5 फीसदी जीएसटी

एक हजार रुपये मूल्य तक के जूते-चप्पल पर अब 5 प्रतिशत का कर लगेगा। पहले यह रियायती दर केवल 500 रुपये मूल्य के जूते-चप्पल पर लागू थी।

इन उत्पादों पर जीएसटी दर 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया गया

मध्यम वर्ग द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले 17 उत्पादों जैसे पेंट्स, फ्रिज, वॉशिंग मशीन, वैक्यूम क्लीनर, पानी गर्म करने वाला हीटर, 68 सेमी तक के टीवी पर कर की दर को 28 प्रतिशत से कम करके 18 प्रतिशत किया गया है।

Write a comment