1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Q4 Results: सिंडिकेट बैंक को हुआ 2,195 करोड़ रुपए का घाटा, क्रॉम्पटन ग्रीव्स का लाभ 32% बढ़ा

Q4 Results: सिंडिकेट बैंक को हुआ 2,195 करोड़ रुपए का घाटा, क्रॉम्पटन ग्रीव्स का लाभ 32% बढ़ा

सार्वजनिक क्षेत्र के सिंडिकेट बैंक को बीते वित्त वर्ष की मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में 2,195.12 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है। ऊंचे डूबे कर्ज की वजह से बैंक को अधिक प्रावधान करना पड़ा

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 16, 2018 13:10 IST
syndicate bank- India TV Paisa

syndicate bank

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के सिंडिकेट बैंक को बीते वित्त वर्ष की मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में 2,195.12 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है। ऊंचे डूबे कर्ज की वजह से बैंक को अधिक प्रावधान करना पड़ा, जिससे बैंक का नुकसान बढ़ा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में बैंक को 103.84 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ था। दिसंबर तिमाही में बैंक को 869.77 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ था। 

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा है कि मार्च तिमाही में बैंक का डूबे कर्ज के लिए प्रावधान करीब तीन गुना यानी 3,544.68 करोड़ रुपए हो गया, जो एक साल पहले समान तिमाही में 1,192.54 करोड़ रुपए था। तिमाही के दौरान बैंक की आमदनी घटकर 6,046 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 6,913.09 करोड़ रुपए रही थी। 

पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक को 3,222.84 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक ने 358.95 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। वित्त वर्ष के दौरान बैंक की आय घटकर 24,581.85 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 26,461.18 करोड़ रुपए थी।

क्रॉम्पटन ग्रीव्स का शुद्ध लाभ चौथी तिमाही में 32 प्रतिशत बढ़ा 

क्रॉम्पटन ग्रीव्स कंज्यूमर इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (सीजीसीईएल) का लाभ 31 मार्च 2018 को समाप्त तिमाही में 103.22 करोड़ रुपए रहा। सीजीसीईएल ने बंबई शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि इससे पूर्व वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 77.94 करोड़ रुपए था। इस प्रकार मार्च 2018 को समाप्त वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में उसका मुनाफा 32.43 प्रतिशत बढ़ गया। 

इस दौरान कंपनी की परिचालन आय आलोच्य तिमाही में 1,126.31 करोड़ रुपए रही। एक साल पहले 2016-17 की इसी तिमाही में यह 1,076.09 करोड़ रुपए थी। कंपनी के अनुसार परिचालन से प्राप्त राजस्व के ये आंकड़े तुलना योग्य नहीं है क्योंकि 31 मार्च 2018 को समाप्त तिमाही का आंकड़ा माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के बाद का है।

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज का लाभ भी बढ़ा 

एफएमसीजी क्षेत्र की कंपनी ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज ने बीते वित्त वर्ष की 31 मार्च को समाप्त चौथी तिमाही में 264 करोड़ रुपए का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया है, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही के 211 करोड़ रुपए की तुलना में 25 प्रतिशत अधिक है। 

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 2,581.93 करोड़ रुपए रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 2,349.63 करोड़ रुपए रही थी। पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में कंपनी का शुद्ध लाभ 14 प्रतिशत बढ़कर 1,004 करोड़ रुपए हो गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 885 करोड़ रुपए था। इसी तरह वित्त वर्ष में कंपनी की आय बढ़कर 10,156.47 करोड़ रुपए हो गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 9,474.65 करोड़ रुपए थी। 

Write a comment
bigg-boss-13
plastic-ban