1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. रुपया 18 पैसे घटकर 71.75 प्रति डॉलर पर हुआ बंद, गिरावट का बनाया नया रिकॉर्ड

रुपया 18 पैसे घटकर 71.75 प्रति डॉलर पर हुआ बंद, गिरावट का बनाया नया रिकॉर्ड

डॉलर के मुकाबले रुपया 17 पैसे घटकर 71.75 के स्तर पर बंद हुआ, दिन के कारोबार में रुपया रिकॉर्ड निचले स्तर तक फिसला

Manoj Kumar Manoj Kumar
Updated on: September 05, 2018 17:06 IST
Rupee falls to fresh low on Wednesday- India TV Paisa

Rupee falls to fresh low on Wednesday

नई दिल्ली। भारतीय करेंसी रुपए की गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही है, बुधवार को डॉलर के मुकाबले रुपए ने गिरावट का नया रिकॉर्ड बनाया है। बुधवार को रुपए ने दिन के कारोबार में 71.97 प्रति डॉलर का नया निचला स्तर छुआ है। बाजार बंद होने से कुछ देर पहले रुपए में कुछ रिकवरी आई और यह 17 पैसे की गिरावट के साथ 71.75 प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

कमजोर रुपए से महंगाई बढ़ने की आशंका बढ़ी

कमजोर रुपए की वजह से देश में पेट्रोल और डीजल पहले ही महंगे मिल रहे हैं और अब रुपया और भी कमजोर हो गया है जिससे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और भी ज्यादा इजाफा होने की आशंका बढ़ गई है। देश में पेट्रोल और डीजल की खपत को पूरा करने के लिए डॉलर देकर विदेशों से कच्चा तेल खरीदा जाता है और डॉलर खरीदने के लिए अब ज्यादा रुपए चुकाने पड़ रहे हैं ऐसे में पेट्रोल और डीजल की महंगाई बढ़ने की आशंका मजबूत हो गई है।

पेट्रोल और डीजल के अलावा मोबाइल और टेलिविजन भी होंगे महंगे!

रुपए की कमजोरी से सिर्फ पेट्रोल और डीजल ही महंगे नहीं हो रहे हैं बल्कि देश में आयात होने वाली तमाम वस्तुओं की लागत बढ़ गई है जिससे उनके महंगा होने की आशंका भी जताई जा रही है। पेट्रोलियम उत्पादों के बाद देश में सबसे ज्यादा आयात इलेक्ट्रोनिक्स के सामान का होता है और रुपया कमजोर होने की वजह से आयात होने वाले इलेक्ट्रोनिक्स के तमाम प्रोडक्ट यानि आयातित मोबाइल और टेलिविजन के दाम बढ़ने की आशंका बढ़ गई है।

देश में आयात होने वाली हर वस्तू की कीमत बढ़ने की आशंका

देश में ज्यादा आयात होने वाले उत्पादों में खाने का तेल, कोयला, कैमिकल, महंगे रत्न, स्टील, इलेक्ट्रिकल मशीनें, ट्रांस्पोर्ट का सामान और प्लास्टिक का समान प्रमुख हैं और रुपए के सस्ता होने की वजह से इन तमाम वस्तुओं के महंगा होने की आशंका बढ़ गई है। इन सबके अलावा विदेश यात्रा, विदेश में पढ़ाई और विदेश से ली जाने वाली हर उस सेवा के लिए भी ज्यादा कीमत लगेगी जिसका भुगतान डॉलर में करना पड़ता है।

Write a comment