1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. पीएनबी ने गरीब खाताधारकों से वसूले 278 करोड़ रुपये, इस वजह से लगाया जुर्माना

पीएनबी ने गरीब खाताधारकों से वसूले 278 करोड़ रुपये, इस वजह से लगाया जुर्माना

पंजाब नेशनल बैंक ने बैंक खातों में न्यूनतम राशि जमा नहीं होने पर जुर्मान के नाम पर गरीब खाता धारकों से 278 करोड़ रुपए वसूले हैं। पीएनबी ने खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 278.66 करोड़ रुपये वसूले हैं।

IANS IANS
Published on: August 08, 2019 6:27 IST
pnb collects rs 278 crore as penalty from poor account holders- India TV Paisa

pnb collects rs 278 crore as penalty from poor account holders

भोपाल। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) को हजारों करोड़ रुपए का चूना लगाकर भागे भगोड़े कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से बैंक भले कोई रकम न वसूल पाई हो लेकिन बैंक ने न्यूनतम राशि न होने के नाम पर अपने ग्राहकों से 278 करोड़ रुपए जरूर वसूल कर लिए हैं। बैंक खातों में न्यूनतम राशि जमा न होना भी बैंकों की आय और मुनाफे का एक जरिया बन गया है। पीएनबी ने खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर अपने खाताधारकों से वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 278.66 करोड़ रुपये वसूले हैं। यह राशि देशभर के लगभग एक करोड़ 27 लाख ग्राहकों से वसूली गई है। 

RTI में हुआ खुलासा

यह खुलासा आरटीआई के जरिए प्राप्त जानकारी से हुआ है। मध्य प्रदेश के नीमच जिले के एक आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने पंजाब नेशनल बैंक से एक आरटीआई आवेदन के जरिए यह जानकारी मांगी थी कि बीते दो वित्त वर्षो में बचत और चालू खातों में न्यूनतम राशि न होने पर कितने खातेदारों से कितनी राशि वसूली गई है।

पीएनबी की ओर से उपलब्ध कराए गए ब्यौरे के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने बैंक खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर खाताधारकों से 278.66 करोड़ रुपये वसूले। यह राशि विगत वित्त वर्ष की तुलना में वसूली गई राशि से 32 फीसदी अधिक है।

करीब 1.27 करोड़ खाता धारकों से वसूला जुर्माना

ब्यौरे के अनुसार, पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 1,22,53,756 बचत खातों से कुल 226.36 करोड़ रुपये और 5,37,692 चालू खातों से कुल 52.30 करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में वसूले हैं। यह राशि इन खातों में न्यूनतम राशि न होने के कारण वसूली गई। इस तरह पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान दोनों प्रकार के करीब 1़ 27 करोड़ खाता धारकों(बचत एवं चालू) से कुल 278.66 करोड़ रुपये जुर्माने के तौर पर वसूले हैं।

गरीब खाता धारक बैंक में नहीं रख पाते हैं न्यूनतम रकम
वहीं पंजाब नेशनल बैंक ने वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 1,22,98,748 बचत खातों से कुल 151.66 करोड़ रुपये एवं 5,94,048 चालू खातों से कुल 59.08 करोड़ रुपये खातों में न्यूनतम राशि न होने पर खाताधारकों से जुर्माने के रूप में वसूले हैं। इस तरह वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान बैंक ने दोनों प्रकार के(बचत एवं चालू) लगभग 1़ 28 करोड़ खाताधारकों से कुल 210़ 74 करोड़ रूपये की राशि खातों में न्यूनतम शेष नहीं बनाएं रखने पर जुर्माने के तौर पर वसूले।

गौड़ ने कहा कि बैंक द्वारा ग्राहक के खातों में न्यूनतम शेष राशि नहीं रखने पर वसूले जाने वाला जुर्माना वस्तुत: उसकी गरीबी पर जुर्माना है। व्यापक जनहित में इसकी तुरंत समीक्षा होनी चाहिए, और ऐसे सभी पेनल्टी प्रभारों की वसूली पर तत्काल प्रभाव से रोक लगनी चाहिए।

Write a comment