1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. पेट्रोल का भाव करीब 2 महीने की ऊंचाई पर, लगातार पांचवें दिन बढ़े दाम

पेट्रोल का भाव करीब 2 महीने की ऊंचाई पर, लगातार पांचवें दिन बढ़े दाम

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी और घरेलू करेंसी रुपए में गिरावट की वजह से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को दाम बढ़ाने पड़े हैं

Manoj Kumar Manoj Kumar
Published on: August 06, 2018 9:00 IST
Petrol price rose to nearly 2 month high on Monday - India TV Paisa

Petrol price rose to nearly 2 month high on Monday 

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की महंगाई से बहुत थोड़े समय के लिए बहुत मामूली राहत के बाद अब फिर से दाम बढ़ गए हैं। सोमवार को लगातार पांचवें दिन दाम बढ़े हैं और देश के चारों महानगरों में पेट्रोल की कीमतें लगभग 2 महीने की ऊंचाई पर दर्ज की गई है। पेट्रोल के साथ डीजल की कीमतों में भी लगातार बढ़ोतरी जारी है, अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी और घरेलू करेंसी रुपए में गिरावट की वजह से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को दाम बढ़ाने पड़े हैं।

4 महानगरों में पेट्रोल का दाम

सोमवार को दिल्ली में पेट्रोल का दाम 76.97 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है जो 9 जून के बाद सबसे अधिक भाव है, कोलकाता में पेट्रोल का भाव बढ़कर 79.89 रुपए हो गया है जो 8 जून के बाद सबसे अधिक है, इसी तरह मुंबई में भाव 84.41 रुपए और चेन्नई में 79.96 रुपए प्रति लीटर हो गया है। रविवार के मुकाबले सोमवार को दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल की कीमतों में 12 पैसे और चेन्नई में 13 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

डीजल की कीमतों में भी बढ़ोतरी

डीजल की कीमतों में भी लगभग इसी तरह की बढ़ोतरी हुई है, सोमवार को दिल्ली में डीजल का भाव 68.44 रुपए, कोलकाता में 71.22 रुपए, मुंबई में 72.66 रुपए और चेन्नई में 72.29 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है।

इस वजह से बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव ऊपरी स्तर पर बना हुआ है, जुलाई के दौरान भारतीय बास्केट के लिए कच्चे तेल का औसत भाव 73.50 डॉलर प्रति बैरल दर्ज किया गया है, इससे पहले जून में यह भाव 73.85 डॉलर प्रति बैरल था। कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ-साथ घरेलू करेंसी रुपए पर भी दबाव बरकरार है, डॉलर का भाव 68.61 रुपए है। कमजोर रुपए और महंगे क्रूड की वजह से तेल कंपनियों को विदेशों से कच्चा तेल आयात करने के लिए ज्यादा रुपए चुकाने पड़ रहे हैं और वह इसका बोझ पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाकर ग्राहकों पर डाल रही हैं।

Write a comment