1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. पाकिस्‍तान ने भारत से खरीदे 250 करोड़ रुपए के एंटी-रेबीज और एंटी-वेनम टीके, खुद के पास नहीं है पर्याप्‍त क्षमता

पाकिस्‍तान ने भारत से खरीदे 250 करोड़ रुपए के एंटी-रेबीज और एंटी-वेनम टीके, खुद के पास नहीं है पर्याप्‍त निर्माण क्षमता

द्विपक्षीय संबंधों में खटास आने के बाद भी पाकिस्तान भारत से इन वैक्सीन की खरीद कर रहा है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: July 26, 2019 12:46 IST
Pak imports over USD 36 million of anti-rabies, anti-venom vaccines from India- India TV Paisa
Photo:PAK IMPORTS OVER USD 36 M

Pak imports over USD 36 million of anti-rabies, anti-venom vaccines from India

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान ने भारत से 250 करोड़ रुपए मूल्‍य के एंटी-रेबीज और एंटी-वेनम वैक्‍सीन का निर्यात किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विनिर्माण क्षमता की कमी की वजह से पाकिस्‍तान ने भारत से इन वैक्‍सीन का निर्यात किया है। नेशनल न्‍यूजपेपर ने गुरुवार को जारी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्‍तान ने पिछले 16 माह में भारत से 250 करोड़ रुपए (3.6 करोड़ डॉलर) से अधिक मूल्‍य के एंटी-रेबीज और एंटी-वेनम वैक्‍सीन का निर्यात किया है।

सांसद रहमान मलिक द्वारा संसद में भारत से आया‍तित दवाओं की मात्रा और मूल्‍य के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सेवा मंत्रालय (एनएचएस) ने यह आंकड़े संसद में पेश किए थे। उन्‍होंने वैक्‍सीन बनाने की क्षमता के बारे में भी सवाल पूछा था।  

अपने जवाब में एनएचएस ने कहा कि एंटी-रेबीज और एंटी-वेनम दोनों सीरम को पाकिस्‍तान में नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हेल्‍थ द्वारा बनाया जाता है, जबकि एक प्राइवेट कंपनी भी एंटी-वेनम सीरम का स्‍थानीय स्‍तर पर विनिर्माण करती है।

हालांकि दोनों विनिर्माताओं की क्षमता मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्‍त नहीं है इसलिए विधिवत पंजीकरण धारकों द्वारा इन टीकों का आयात भारत से किया जाता है। द्विपक्षीय संबंधों में खटास आने के बाद भी पाकिस्‍तान भारत से इन वैक्‍सीन की खरीद कर रहा है।

एनएचएस द्वारा प्रस्‍तुत रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि देश के विभिन्‍न क्षेत्रों में इन वैक्‍सीन की मांग और आपूर्ति में काफी अंतर है। सांसद मलिक ने सुझाव दिया कि स्थानीय निर्माताओं को इन टीकों का उत्पादन करना अनिवार्य किया जाना चाहिए क्योंकि पाकिस्तान मेडिकल कच्चे माल में आत्मनिर्भर है और यहां निर्मित टीके बहुत अधिक किफायती होंगे।

Write a comment
arun-jaitley