1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नए अवतार में एक बार फि‍र आ रहा है ऑर्कुट, फेसबुक को कड़ी टक्‍कर देने की है तैयारी

नए अवतार में एक बार फि‍र आ रहा है ऑर्कुट, फेसबुक को कड़ी टक्‍कर देने की है तैयारी

फेसबुक के लोकप्रिय होने से पहले भारत में काफी लोकप्रिय रही सोशल मीडिया साइट ऑर्कुट के संस्‍थापक ऑर्कुट बुयुकोकटेन अपना नया सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म जेट हेलो लेकर आ रहे हैं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: April 25, 2018 20:40 IST
hello- India TV Paisa

hello

 

नई दिल्‍ली। फेसबुक के लोकप्रिय होने से पहले भारत में काफी लोकप्रिय रही सोशल मीडिया साइट ऑर्कुट के संस्‍थापक ऑर्कुट बुयुकोकटेन अपना नया सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म जेट हेलो लेकर आ रहे हैं। इससे फेसबुक के लिए भारत में एक नया प्रतिस्‍पर्धी होगा और ऐसा माना जा रहा है कि इससे फेसबुक को कड़ी टक्‍कर मिल सकती है। भारत में इस नए प्‍लेटफॉर्म को लॉन्‍च करने के लिए उन्‍होंने डिजिटल इन्‍नोवेटिव कंपनी जेटसिंथेसिस के साथ गठजोड़ किया है। इस रणनीतिक भागीदारी के तहत स्‍थानीय भागीदार के रूप में जेटसिंथेसिस जेट हेलो की पहुंच भारत में मजबूत करने के लिए वृहद कारोबारी रणनीति एवं परिचालन, विपणन एवं मौद्रीकरण के लिए जिम्‍मेदार होगी। वहीं हेलो नेटवर्क की टीम लगातार इन्‍नोवेटिव टेक्‍नोलॉजी का विकास करती रहेगी। 

अपने पहले भारत दौरे पर आए बुयुकोकटेन ने कहा कि हमारा उद्देश्‍य भारत के लिए एक ऐसा सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म बनान है जो समुदाय से संचालित हो और एक तरह के लोगों को आपस में जोड़ने में मददगार हो। ऑर्कुट के लिए भारत एक मुख्‍य बाजार था, यहां उसके करीब आठ करोड़ से अधिक यूजर्स थे। हालांकि शुरुआती लोकप्रियता के बाद ही फेसबुक के आगे ऑर्कुट टिक नहीं पाई और उसे अपना परिचालन बंद करना पड़ा। 

बुयुकोकटेन ने कहा कि जेट हेलो भारत में करीब 35 हजार यूजर्स के साथ अपनी शुरुआत करेगी और जल्‍द ही करीब 1 लाख यूजर्स को अपने साथ जोड़ेगी। जेटसिंथेसिस और हेलो नेटवर्क पिछले एक साल से इंटरस्‍टेट आधारित सोशल नेटवर्क को विकसित करने पर काम कर रहे हैं। इस भागीदारी के तहत हेलो जेटसिंथेसिस की ग्‍लोबल टैलेंट पूल तक पहुंच सुनिश्चित करेगी।  

हेलो नेटवर्क की स्‍थापना ऑर्कुट बुयुकोकटेन और जॉन मर्फी ने गूगल इंजीनियर्स के एक छोटे से ग्रुप के साथ 2016 में की थी। इसके पास वर्तमान में 10 लाख डाउनलोड के साथ पूरी दुनिया में यूजर्स हैं। भारत के बाद कंपनी की योजना अगले कुछ महीनों में उत्‍तरी अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, जापान, कोरिया और सिंगापुर के बाजार में भी प्रवेश करने की है।  

Write a comment