1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. एक विशेष टीम कर रही है नोटबंदी के बाद जमा पुराने नोटों की गिनती, उर्जित पटेल ने संसदीय समिति के सामने किया ये खुलासा

एक विशेष टीम कर रही है नोटबंदी के बाद जमा पुराने नोटों की गिनती, उर्जित पटेल ने संसदीय समिति के सामने किया ये खुलासा

RBI के गवर्नर उर्जित पटेल आज संसदीय समिति के सामने पेश हुए और उन्‍होंने बताया कि नोटबंदी के बाद जमा हुए पुराने नोटों की गिनती अभी भी जारी है।

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Updated on: July 13, 2017 8:33 IST
500 और 1000 के पुराने नोट गिनने के लिए RBI ने कर्मचारियों की छुट्टुियां कम की, उर्जित पटेल ने दी जानकारी- India TV Paisa
500 और 1000 के पुराने नोट गिनने के लिए RBI ने कर्मचारियों की छुट्टुियां कम की, उर्जित पटेल ने दी जानकारी

नई दिल्‍ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर उर्जित पटेल आज संसदीय समिति के सामने पेश हुए और उन्‍होंने बताया कि नोटबंदी के बाद जमा हुए पुराने नोटों की गिनती अभी भी जारी है। इनकी गिनती एक स्‍पेशल टीम द्वारा लगातार की जा रही है। गिनती में लगे कर्मचारियों को रविवार के अलावा कोई छुट्टी नहीं दी जा रही है।

संसदीय समिति में शामिल समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल और तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगत रॉय ने उर्जित पटेल से पूछा कि कितने पुराने नोट के बदले कितने नोट सिस्‍टम में वापस आए हैं। इस पर पटेल ने बताया कि इस समय सर्कुलेशन में कुल 15.4 लाख करोड़ रुपए की करेंसी आ चुकी है। पिछले साल नवंबर में सर्कुलेशन में कुल 17.7 लाख करोड़ रुपए की करेंसी थी। उल्‍लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को कालेधन और भ्रष्‍टाचार को रोकने के लिए अचानक पुराने 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी।

उर्जित पटेल ने कहा कि प्रतिबंधित नोट अभी भी नेपाल से आ रहे हैं और सहकारी बैंकों को इन्‍हें स्‍वीकार करने की अनुमति दी गई है। पोस्‍ट ऑफि‍स भी अपने यहां जमा पुराने नोटों को अभी आरबीआई के पास जमा करवा रहे हैं। आरबीआई गवर्नर नोटबंदी के बाद दूसरी बार संसदीय समिति के सवालों का जवाब देने के लिए उसके समक्ष पेश हुए थे।

इससे पहले वह जनवरी में संसदीय समिति के समक्ष पेश हुए थे। संसदीय समिति के अध्‍यक्ष कांग्रेस के सांसद वीरप्‍पा मोइली ने पटेल को पिछले महीने दो बार पेश होने का नोटिस भेजा था, लेकिन मौद्रिक नीति के चलते पटेल समिति के समक्ष पेश नहीं हो पाए थे।

Write a comment