1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. मानसून सीजन हुआ खत्म, लेकिन 250 से ज्यादा जिलों में रहा सूखा, उत्तर और मध्य भारत में सबसे ज्यादा मार

मानसून सीजन हुआ खत्म, लेकिन 250 से ज्यादा जिलों में रहा सूखा, उत्तर और मध्य भारत में सबसे ज्यादा मार

मानसून सीजन यानि पहली जून से लेकर 30 सितंबर तक सबसे कम बरसात रही है उनमें मणिपुर, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश सबसे आगे हैं

Manoj Kumar Manoj Kumar
Updated on: October 01, 2017 13:55 IST
मानसून सीजन हुआ खत्म, लेकिन 250 से ज्यादा जिलों में रहा सूखा, उत्तर और मध्य भारत में सबसे ज्यादा मार- India TV Paisa
मानसून सीजन हुआ खत्म, लेकिन 250 से ज्यादा जिलों में रहा सूखा, उत्तर और मध्य भारत में सबसे ज्यादा मार

नई दिल्ली। 4 महीने तक चलने वाला मानसून सीजन आधिकारिक तौर पर 30 सितंबर यानि शनिवार को समाप्त हो चुका है। इस साल पूरे मानसून सीजन में लगभग सामान्य बारिश रही है लेकिन देश के 250 से ज्यादा जिले ऐसे रहे हैं जिनमें औसत के मुकाबले 90 फीसदी या इससे बहुत कम बरसात हुई है। सबसे खराब हालात उत्तर और मध्य भारत में रहे हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए मानसून सीजन की बरसात सबसे अहम होती है, देश में सालभर में होने वाली कुल बरसात का करीब 70 फीसदी हिस्सा मानसून सीजन में ही बरसता है। ऐसे में कम बरसात अर्थव्यवस्था के लिए घातक हो सकती है।

भारतीय मौसम विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक जिन राज्यों में पूरे मानसून सीजन यानि पहली जून से लेकर 30 सितंबर तक सबसे कम बरसात रही है उनमें मणिपुर, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश सबसे आगे हैं। जिन राज्यों में मानसून सीजन के दौरान बहुत कम बरसात हुई है वह इस तरह से हैं….

राज्य बारिश की कमी (%)
उत्तर प्रदेश -29
हरियाणा -26
पंजाब -22
दिल्ली -30
मध्य प्रदेश -20
मणिपुर -33
तेलंगाना -13

हालांकि पूरे देश की औसत बरसात को देखें तो जून से सितंबर दौरान देश में औसतन 841.3 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई है जो औसत के मुकाबले करीब 5 फीसदी कम है, सामान्य तौर पर इस दौरान देश में 887.5 मिलीमीटर बारिश होती है। देश के कुल 24 राज्यों में सामान्य बरसात रही है जबकि 4 में औसत से ज्यादा और 1 राज्य में औसत से बहुत अधिक बारिश दर्ज की गई है।

जिलों के आधार पर देखें तो उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 56 जिलों में बहुत कम बरसात हुई है, राज्य के 56 जिलों में औसत के मुकाबले 90 फीसदी या इससे कम बरसात हुई है, 90 फीसदी या इससे कम बरसात होने की स्थिति में सूकाग्रस्त घोषित हो जाता है। यानि उत्तर प्रदेश के 56 जिले सूखाग्रस्त है, इसके अलावा मध्य प्रदेश के 35, पंजाब के 12 और हरियाणा के 16 जिले सूखाग्रस्त हैं।

मानसून सीजन के दौरान देश के अधिकतर हिस्सों में कम बारिश के बीच कुछ राज्य ऐसे भी रहे हैं जिनमें सामान्य के मुकाबले बहुत अधिक बरसात दर्ज की गई है। मौसम विभाग के मुताबिक, गुजरात में औसत से 19 फीसदी ज्यादा, राजस्थान में 8 फीसदी अधिक, आंध्र प्रदेश में 18 फीसदी ज्यादा और तमिलनाडू में 31 फीसदी अधिक बरसात दर्ज की गई है, पूर्वोत्तर राज्यों में भी कई राज्यों में औसत से ज्यादा बारिश हुई है।

राज्य मानसून सीजन में अधिक बरसात (%)
गुजरात +19
तमिलनाडू +31
आंध्र प्रदेश +18
राजस्थान +8
Write a comment
bigg-boss-13