1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. मई में सुस्‍त पड़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार, जून में खुदरा मुद्रास्‍फीति बढ़कर हुई 3.18 प्रतिशत

मई में सुस्‍त पड़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार, जून में खुदरा मुद्रास्‍फीति बढ़कर हुई 3.18 प्रतिशत

खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से खुदरा मुद्रास्फीति जून में इससे पूर्व महीने के मुकाबले मामूली रूप से बढ़कर 3.18 प्रतिशत पर पहुंच गई।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 12, 2019 19:00 IST
Mining, manufacturing pull down IIP growth to 3.1 pc in May, Retail inflation up 3.18 pc in June- India TV Paisa
Photo:IIP AND CPI

Mining, manufacturing pull down IIP growth to 3.1 pc in May, Retail inflation up 3.18 pc in June

नई दिल्‍ली। औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) की वृद्धि दर मई महीने में घटकर 3.1 प्रतिशत रह गई। शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। मई, 2018 में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 3.8 प्रतिशत रही थी। समीक्षाधीन महीने में बिजली क्षेत्र का उत्पादन 7.4 प्रतिशत बढ़ा। एक साल पहले समान महीने में बिजली क्षेत्र की वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही थी।

खनन क्षेत्र की वृद्धि दर मई में घटकर 3.2 प्रतिशत रह गई। मई, 2018 में खनन क्षेत्र का उत्पादन 5.8 प्रतिशत बढ़ा था। हालांकि,समीक्षाधीन महीने में विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर घटकर 2.5 प्रतिशत रह गई। पिछले साल मई में विनिर्माण क्षेत्र का उत्पादन 3.6 प्रतिशत बढ़ा था।

खुदरा मुद्रास्फीति जून में बढ़ी  

खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से खुदरा मुद्रास्फीति जून में इससे पूर्व महीने के मुकाबले मामूली रूप से बढ़कर 3.18 प्रतिशत पर पहुंच गई। सरकारी आंकड़े के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति इस साल मई महीने में 3.05 प्रतिशत तथा जून 2018 में 4.92 प्रतिशत थी।

खुदरा मुद्रास्फीति इस साल जनवरी से बढ़ रही है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित आंकड़ों के अनुसार खाद्य मुद्रास्फीति जून 2019 में 2.17 प्रतिशत थी,  जो इससे पूर्व माह में 1.83 प्रतिशत थी।

अंडा, मांस और मछली जैसे प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों की महंगाई दर जून में इससे पूर्व महीने के मुकाबले अधिक रही। हालांकि सब्जियों और फलों के मामले में मुद्रास्फीति की वृद्धि धीमी रही। भारतीय रिजर्व बैंक द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा पर विचार करते समय मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति पर गौर करता है।

Write a comment