1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. दमदार मानसून से खरीफ की खेती में उछाल, औसत से 38 लाख हेक्टेयर आगे बुआई

दमदार मानसून से खरीफ की खेती में उछाल, औसत से 38 लाख हेक्टेयर आगे बुआई

28 जुलाई तक देशभर में कुल 791.34 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसल लगाई जा चुकी है जो औसत के मुकाबले करीब 38 लाख हेक्टेयर आगे है।

Manoj Kumar [Updated:28 Jul 2017, 5:44 PM IST]
दमदार मानसून से खरीफ की खेती में उछाल, औसत से 38 लाख हेक्टेयर आगे बुआई- India TV Paisa
दमदार मानसून से खरीफ की खेती में उछाल, औसत से 38 लाख हेक्टेयर आगे बुआई

नई दिल्ली। अबतक बीते मानसून सीजन के दौरान हुई शानदार बरसात ने इस साल खरीफ बुआई को बढ़ाने में काफी मदद की है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए बुआई आंकड़ों के मुताबिक चालू खरीफ सीजन के दौरान 28 जुलाई तक देशभर में कुल 791.34 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसल लगाई जा चुकी है जो औसत के मुकाबले करीब 38 लाख हेक्टेयर आगे है। सामान्य तौर पर इस दौरान देश में 753.47 लाख हेक्टेयर में बुआई हो पाती है।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय के मुताबिक इस साल धान, दलहन और मोटे अनाज की खेती में इजाफा हुआ है जबकि तिलहन की बुआई पिछड़ी है। दलहन किसानों को मिले कम भाव के बावजूद किसानों का मोह दलहन की खेती से कम नहीं हुआ है। 28 जुलाई तक देशभर में दलहन का कुल रकबा 114.88 लाख हेक्टेयर दर्ज किया गया है जबकि पिछल साल इस दौरान 107.44 लाख हेक्टेयर में बुआई हुई थी। धान की बात करें तो 28 जुलाई तक देशभर में कुल 216.23 लाख हेक्टेयर में धान की फसल लगी है जबकि पिछल साल इस दौरान 211.20 लाख हेक्टेयर में बुआई हुई थी। मोटे अनाज की अबतक 150.19 लाख हेक्टेयर में खेती हो चुकी है जबकि पिछल साल इस दौरान 145.40 लाख हेक्टेयर में बुआई दर्ज की गई थी। हालांकि तिलहन की खेती इस साल पिछड़ी है, 28 जुलाई तक देशभर में कुल 142.31 लाख हेक्टेयर में तिलहन की फसल लगी है जबकि पिछले साल इस दौरान 156.65 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी।

खरीफ फसलों के लिए इस साल मानसून सीजन फायदेमंद रहा है, भातीय मौसम विभाग के मुताबिक अबतक बीते मानसून सीजन यानि पहली जून से लेकर 27 जुलाई तक देशभर में औसत के मुकाबले 4 फीसदी ज्यादा बरसात दर्ज की गई है। सामान्य तौर पर इस दौरान औसतन 425.2 मिलीमीटर बारिश होती है लेकिन इस बार 440.6 मिलीमीटर बरसात रिकॉर्ड की गई है।

Web Title: खरीफ की खेती औसत से 38 लाख हेक्टेयर आगे
Write a comment