1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नकली उत्‍पादों पर जिंदल स्टेनलेस कसेगी लगाम, अगले दो सालों में 1100 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय का लक्ष्य

नकली उत्‍पादों पर जिंदल स्टेनलेस कसेगी लगाम, अगले दो सालों में 1100 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय का लक्ष्य

जिंदल स्टेनलेस के प्रबंध निदेशक अभ्युदय जिंदल ने कहा कि अपने ग्राहकों की जरूरत को देखते हुए यह सह-ब्रांडिंग योजना शुरू की गई है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 17, 2019 17:24 IST
Jindal Stainless clamps down on counterfeit market- India TV Paisa
Photo:JINDAL STAINLESS CLAMPS D

Jindal Stainless clamps down on counterfeit market

नई दिल्ली। बाजार में जिंदल स्टेनलेस के नाम पर बिक रहे नकली उत्पादों पर लगाम लगाने के लिए कंपनी पाइप एवं ट्यूब (पीएंडटी) विनिर्माताओं के साथ मिलकर एक देशव्यापी सह-ब्रांडिंग पहल शुरू कर रही है। मौजूदा 44 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ पीएंडटी क्षेत्र में जिंदल स्टेनलेस की सालाना आय 2300 करोड़ रुपए है। अगले दो सालों में कंपनी ने अपनी बाज़ार हिस्सेदारी बढ़ाकर 52 प्रतिशत करने और 3400 करोड़ रुपए तक की सालाना आय हासिल करने  का लक्ष्य रखा है। उद्योग आंकलन के अनुसार सजावटी पीएंडटी का मौजूदा बाजार करीब 5300 करोड़ रुपए का है और यह सालाना 12 प्रतिशत से अधिक की दर से वृद्धि दर्ज कर रहा है।

जिंदल स्टेनलेस के प्रबंध निदेशक अभ्युदय जिंदल ने कहा कि अपने ग्राहकों की जरूरत को देखते हुए यह सह-ब्रांडिंग योजना शुरू की गई है। भारत में सालाना बिकने वाले 25 प्रतिशत से अधिक पाइप एवं ट्यूब की जिंदल स्टेनलेस के नाम पर जाली ब्रांडिंग होती है और इनका मूल्य 1300 करोड़ रुपए से अधिक है। हम नकल के इस कारोबार पर लगाम लगाना चाहते हैं और अगले दो सालों में लगातार वृद्धि दर्ज कर रहे इस पीएंडटी बाजार पर अपनी पकड़ बढ़ाना चाहते हैं।

भारतीय स्टेनलेस स्टील उद्योग में अपने किस्म के इस पहले अभियान के तौर पर जिंदल स्टेनलेस की सह-ब्रांडिंग पहल कंपनी के एमओयू भागीदारों को अन्य पीएंडटी विनिर्माताओं से विशिष्ट तौर पर अलग करेगी। जिंदल स्टेनलेस ने एक मानकीकृत सील तैयार की है जिस पर एमओयू भागीदार और जिंदल स्टेनलेस के चिन्ह, स्टेनलेस स्टील का ग्रेड और एमओयू नंबर होगा। इस पहल से जिंदल स्टेनलेस और इसके भागीदारों को संयुक्त रूप से ग्राहकों के लिए बेहतर सुविधा प्रदान करने में मदद मिलेगी।

इसके अलावा इस पहल से यह सुनिश्चित होगा कि उपभोक्ताओं तक उचित गुणवत्ता का स्टेनलेस स्टील उत्पाद पहुंचें। इस पहल के लिए भारतीय स्तर पर इस क्षेत्र में 60 से अधिक एमओयू भागीदारों ने जिंदल स्टेनलेस के साथ हाथ मिलाया है।

स्टेनलेस स्टील के सजावटी पाइप एवं ट्यूब का उपयोग मुख्य तौर पर वास्तुशिल्प, भवन एवं निर्माण क्षेत्र में होता है। इनका उपयोग वाहन, रेलवे एवं परिवहन क्षेत्र, जैसे ऑटोमोबाइल गार्ड एवं ई-रिक्शा आदि में भी होता है। सरकार द्वारा रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास, नए राजमार्ग, मेट्रो परियोजनाओं और अन्य बुनियादी ढांचा विकास जैसे क्षेत्रों पर बल के चलते, पाइप एवं ट्यूब क्षेत्र में ज़ोरदार वृद्धि दर्ज होने की उम्मीद है।

सजावटी पीएंडटी खंड में 304, जेटी, जे4 और जेएसएलयूएसडी श्रेणी के स्टेनलेस स्टील ग्रेड का उपयोग होता है। ये अधिक मज़बूत होते हैं और इनकी जीवनचक्र लागत काम होती है। सौंदर्य की दृष्टि से ये ग्रेड बहुत अच्छे होते हैं। साथ ही इनकी मरम्मत की लागत कम होती है। क्षरणरोधी और लगभग 100 प्रतिशत रिसाइकिलेबल ये स्टेनलेस स्टील ग्रेड टिकाऊ भी होते हैं।

Write a comment