1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. ब्लैकमनी लेकर शादियां करवाते थे कैटरर्स, आयकर विभाग की छापेमारी में 100 करोड़ रुपए जब्त

ब्लैकमनी लेकर शादियां करवाते थे कैटरर्स, आयकर विभाग की छापेमारी में 100 करोड़ रुपए जब्त

आयकर विभाग के छापों में शादियों में ब्‍लैकमनी के इस्तेमाल के मामले सामने आए हैं।आयकर ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में शादी के पंडाल और खाने की व्यवस्था करने वाले कुछ बड़े कारोबारियों पर छापे मारे जिसमें 100 करोड़ रुपये का कालाधन और अघोषित आय का पता लगा है।

Sachin Chaturvedi Sachin Chaturvedi
Updated on: May 09, 2018 12:36 IST
Wedding  - India TV Paisa

Wedding

 

नई दिल्ली। आयकर विभाग के छापों में शादियों में ब्‍लैकमनी के इस्तेमाल के मामले सामने आए हैं। आयकर ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में शादी के पंडाल और खाने की व्यवस्था करने वाले कुछ बड़े कारोबारियों पर छापे मारे जिसमें 100 करोड़ रुपये का कालाधन और अघोषित आय का पता लगा है। अधिकारियों ने इसकी जानकारी देते हुये कहा कि 3 मई के बाद से तीन प्रमुख पंडाल और कैटरिंग संचालकों के 43 परिसरों पर तलाशी और छानबीन की कारवाई की गई। इस कारवाई में अब तक उनसे 1.82 करोड़ रुपये की नकद राशि और 2.4 करोड़ रुपये के आभूषण जब्त किये गये। छापे की यह कारवाई आयकर विभाग के दिल्ली जांच इकाई ने की है। 

इन तीन पंडाल एवं कैटरिंग कारोबारियों की हालांकि पहचान नहीं हो सकी है , लेकिन ये आपरेटर ही दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शादी - ब्याह और दूसरे पारिवारिक कार्यक्रमों के बड़े आयोजनों को करते रहे हैं। आयकर विभाग की टीम ने इनके मोबाइल फोन जब्त कर लिये हैं। ये लोग फोन से एसएमएस अथवा व्ह्टसअप के जरिये ही ग्राहकों से लेनदेन करते रहे हैं। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘मोबाइल फोन पर भेजे गये इन सभी संदेशों और दस्तावेजों से अघोषित नकद प्राप्ति के बारे में पता चलता है। इन्हें जब्त कर लिया गया है और इनकी जांच पड़ताल की जा रही है।’’  अधिकारी ने कहा कि इन कारोबारियों के करीब 15 बैंक लाकर सील कर दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि इन मामलों में कालाधन और अघोषित आय का आंकड़ा पहली नजर में 100 करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है। 

अधिकारी ने कहा कि इनमें से कुछ ने मुखौटा कंपनियों से खरीदारी दिखाकर अपने फर्जी खर्च भी दिखाये हैं। कुल मामलों में कमाई पर कर चोरी 100 प्रतिशत तक है। विभाग उन ग्राहकों की भी सूची तैयार कर रहा है जो नकद लेनदेन के जरिये इन कारोबारियों की सेवायें लेते रहे हैं।

Write a comment