1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार करेंसी मार्केट की अस्थिरता से निपटने के लिए पर्याप्त: अरुण जेटली

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार करेंसी मार्केट की अस्थिरता से निपटने के लिए पर्याप्त: अरुण जेटली

भारतीय करेंसी रुपए ने भी मंगलवार को डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचला स्तर छुआ था। डॉलर के मुकाबले रुपए ने मंगलवार को 70.09 का निचला स्तर छुआ

Manoj Kumar Manoj Kumar
Updated on: August 15, 2018 16:32 IST
India’s foreign exchange reserves are sufficient to mitigate currency market volatilty- India TV Paisa

India’s foreign exchange reserves are comfortable and sufficient to mitigate currency market volatility says Arun Jaitley

नई दिल्ली। तुर्की से जुड़े घटनाक्रम की वजह से हाल के दिनों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के लिए खतरा पैदा हुआ है और इस वजह से अमेरिकी करेंसी डॉलर में मजबूती आ रही है। बुधवार को केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने अपने ट्विटर हेंडल के जरिए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था का मुख्य ढांचा इस संकट से निपटने के लिए मजबूत और लचीला है।

भारत के पास पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार

अरुण जेटली ने अपने ट्विटर हेंडल पर लिखा कि करेंसी मार्केट में किसी भी तरह के उतार-चढ़ाव से निपटने और उसके असर को कम करने के लिए भारत का विदेशी मुद्रा भंडार वैश्विक मानकों के मुताबिक पर्याप्त है। उन्होंने लिखा कि सरकार इस घटना पर नजर बनाए हुए है ताकि जरूरत पड़ने पर संभव कदम उठाए जा सकें। रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक 3 अगस्त को खत्म हुए हफ्ते के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 402.70 अरब डॉलर दर्ज किया गया है।

तुर्की संकट से डॉलर में मजबूती

गौरतलब है कि अमेरिका ने तुर्की से आयात होने वाले स्टील और एल्यूमीनियम पर आयात शुल्क बढ़ाकर दोगुना की घोषणा की है, जिस वजह से तुर्की की करेंसी लीरा में भारी गिरावट आई है और डॉलर मजबूत हुआ है। डॉलर की मजबूती की वजह से दुनियाभर की करेंसी पर दबाव देखा जा रहा है, भारतीय करेंसी रुपए ने भी मंगलवार को डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचला स्तर छुआ था। डॉलर के मुकाबले रुपए ने मंगलवार को 70.09 का निचला स्तर छुआ।

तुर्की ने भी अमेरिका से आयातित वस्तुओं पर बढ़ाया शुल्क

हालांकि आज बुधवार को तुर्की ने भी अमेरिका से आयात होने वाली कई वस्तुओं पर आयात शुल्क लगाने की घोषणा की है जिस वजह से अमेरिकी करेंसी डॉलर पर दबाव आने की संभावना है और गुरुवार को इसका असर भारतीय रुपए पर भी दिख सकता है। तुर्की ने अमेरिका से आयात होने वाले चावल, गाड़ियां, एल्कोहल और कॉस्मेटिक के सामान पर आयात शुल्क बढ़ा दिया है।

Write a comment