1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नोटबंदी और GST ने रोकी भारत की वृद्धि, रघुराम राजन ने दोहराई ये बात

नोटबंदी और GST ने रोकी भारत की वृद्धि, रघुराम राजन ने दोहराई ये बात

रघुराम राजन ने कहा कि नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) दो ऐसे प्रमुख कारण हैं, जिनकी वजह से भारत की आर्थिक वृद्धि में पिछले साल रुकावट आई है।

Edited by: India TV Paisa Desk [Updated:10 Nov 2018, 5:17 PM IST]
Raghuram Rajan- India TV Paisa
Photo:RAGHURAM RAJAN

Raghuram Rajan

वॉशिंगटन। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) दो ऐसे प्रमुख कारण हैं, जिनकी वजह से भारत की आर्थिक वृद्धि में पिछले साल रुकावट आई है। उन्‍होंने कहा कि मौजूदा 7 प्रतिशत की वृद्धि दर देश की जरूरत को पूरा करने के लिए पर्याप्‍त नहीं है।

बार्कले में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजन ने कहा कि 2012 से 2016 तक भारत सबसे तेज दर से वृद्धि करने वाला देश था, यह वह समय था जब देश में नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदम नहीं उठाए गए थे। उन्‍होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने भारत में वृद्धि पर गंभीर असर डाला है। भारत की वृद्धि दर में गिरावट आई और रोचक बात यह है कि यह ऐसे समय में हुआ जब वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था में वृद्धि हो रही थी।

उन्‍होंने कहा कि भारत में इस समय 7 प्रतिशत वृद्धि दर को बहुत-बहुत मजबूत वृद्धि दर बताया जा रहा है, जबकि हकीकत यह है कि श्रम बाजार में जिस तरह के लोग आ रहे हैं और उनके लिए हमें रोजगार की जरूरत है, इसे देखते हुए 7 प्रतिशत की वृद्धि दर पर्याप्‍त नहीं है। हमें इससे अधिक दर से वृद्धि की आवश्‍यकता है और हम इस स्‍तर से संतुष्‍ट नहीं हो सकते।

उन्‍होंने कहा कि वैश्विक वृद्धि के लिए भारत बहुत संवेदनशील है, भारत अब बहुत खुली अर्थव्‍यवस्‍था वाला देश बन चुका है और यदि दुनिया वृद्धि करती है तो भारत में अधिक तेजी से वृद्धि करेगा। 2017 में क्‍या हुआ, जब दुनिया आगे बढ़ रही थी लेकिन भारत पीछे जा रहा था। इसका कारण था नोटबंदी और जीएसटी, जिसने वास्‍तव में भारत की अर्थव्‍यवस्‍था पर बहुत बुरा असर डाला।

Web Title: India's economic growth held back due to demonetisation, GST, says Raghuram Rajan | नोटबंदी और GST ने रोकी भारत की वृद्धि, रघुराम राजन ने दोहराई ये बात
Write a comment